Friday , May 25 2018

मुंगेर से असलाह मंगवाता है हिजबुल मुजाहिद्दीन

एटीएस की टीम ने मुल्क में चल रहे गैर कानूनी असलाह की तस्करी के बड़े नेटवर्क का खुलासा किया है। टीम ने जांच में पाया कि मुंगेर में बने गैर कानूनी और जदीद असलाह बिहार समेत दीगर कई रियासतों के कुख्यात मुजरिमों और दहशतगर्द तंजीम हिजब

एटीएस की टीम ने मुल्क में चल रहे गैर कानूनी असलाह की तस्करी के बड़े नेटवर्क का खुलासा किया है। टीम ने जांच में पाया कि मुंगेर में बने गैर कानूनी और जदीद असलाह बिहार समेत दीगर कई रियासतों के कुख्यात मुजरिमों और दहशतगर्द तंजीम हिजबुल मुजाहिद्दीन को सप्लाय की जाती है। एटीएस ने अगस्त, 2014 को मो. जमशेर आलम उर्फ मौलवी साहब, सुरेन्द्र पासवान और निक्कू उर्फ अरुण सिंह को मुंगेर जिले के मिर्जापुर थाना के बरदह गांव से गिरफ्तार किया था।

ये तीनों तस्कर अदालती हिरासत के तहत बेउर जेल में है। एटीएस ने इन तीनों तस्करों के खिलाफ तहक़ीक़ात पूरा करते हुए पटना के मजिस्ट्रेट की अदालत में चार्जशाट दायर की है। इसके अलावे एटीएस ने आधा दर्जन से ज़्यादा मुजरिमों को भी मुल्ज़िम बनाया है, जो उत्तर प्रदेश के आजमगढ़, पंजाब, बिहार समेत दीगर रियासत के हैं। एटीएस पांच माह से मामले की जांच कर रही है।
तीनों असलाह तस्करों ने पंजाब, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र और जम्मू-कश्मीर समेत दीगर रियासतों के दहशतगर्दों और मुल्क के खिलाफ अनासिर के इस्तेमाल के लिए जदीद व औटोमेटिक गैर कानूनी असलाह की सप्लाय की है। बिहार के मिर्जापुर, बरदह गांव के रहने वाले मो. जमेशर आलम उर्फ मौलवी साहब ने एटीएस टीम के सामने खुलासा किया है कि वह मुल्क भर के मुजरिमों के बड़े गिरोह और दहशतगर्द तंजीम हिजबुल मुजाहिदीन के दहशतगर्दों को गैर कानूनी औटोमेटिक असलाह की सप्लाय की है।

हिजबुल मुजाहिदीन के पुलवामा के एरिया कमांडर को भी गैर कानूनी असलाह की सप्लाय की है। इसके अलावे रवेश उल इस्लाम को भी गैर कानूनी पिस्तौल की सप्लाय की थी। आजमगढ़, उतर प्रदेश के रहने वाले निक्कू उर्फ अरुण सिंह ने खुलासा किया कि वह कई दहशतगर्दों और मुजरिमों की मदद के लिए गैर कानूनी असलाह की खरीद-फरोख्त के धंधे से जुड़ा है। असलाह की खरीद के लिए वह जमशेद आलम और सुरेन्द्र पासवान से मिलने मुंगेर आया था।

तीनों तस्करों के पास बरामद कई मोबाइल नंबरों और सिम को एटीएस की टीम खंगाल रही है। टीम यह भी पता लगा रही है कि इन तीनों तस्करों का ताल्लुक किन-किन लोगों से है। मोबाइल नम्बरों का डाटा निकालने में जुटी हुई है। मुल्ज़िम जमेशर उर्फ मौलवी के मोबाइल में मिले आधा दर्जन नंबरों के नेटवर्क की छानबीन कर रही है। जो मुल्क मुखालिफ अनासिर और दहशतगर्दों से ताल्लुक कायम किया गया है।

TOPPOPULARRECENT