Thursday , November 23 2017
Home / Delhi / Mumbai / मुंबई हमला 26/11 पर जर्मन लेखक की खोजी किताब सामने

मुंबई हमला 26/11 पर जर्मन लेखक की खोजी किताब सामने

 

मुंबई: मुंबई में 26 नवंबर 2008 को घटी आतंकवादी हमले में उच्च जांच एजेंसियों की भूमिका को संदिग्ध बताते हुए इस बात को व्यक्त किया गया है कि खुफिया सूत्रों से हमला करने की संभावना से सूचित करने के बावजूद इंटेलिजेंस ब्यूरो (आईबी ) ने मुंबई पुलिस और वेस्टर्न नौसेना कमान को सूचना नहीं दी थी इस‌ दौरान महाराष्ट्र एटीएस प्रमुख हेमंत करकरे को मारने की कथित साजिश रची गई। ये व्यक्त महाराष्ट्र के पूर्व आईएसएम मुशर्रफ ने यहां एक जर्मन लेखक इलियास डेविड 26/11 हमले के संबंध में अंग्रेजी संकलन ‘बेटरिल ऑफ इंडिया’ के शुभारंभ के अवसर पर किया|

मुशर्रफ पहले भी साजिश का पर्दाफाश करने के लिए एक खोजी किताब लिखी है। उन्होंने कहा कि रॉ के माध्यम से एक सप्ताह पहले सूचना देने के बावजूद आईबी ने पुलिस विभाग और अन्य सुरक्षा एजेंसियों को सूचित क्यों नहीं किया, यह भी संदेह पैदा करता है लशकरे तैबह ने ये योजना की, लेकिन हमारी एजेंसियों की भूमिका की भी जांच होनी चाहिए ताकि सच्चाई सामने आ सके। क्योंकि हेमंत करकरे के शरीर से जो गोलियां निकाली गईं, उनके बारे ब्लास्टिक जांच से खुलासा हुआ है कि वह इस्माइल या अजमल कसाब के हथियार नहीं थे.जर्मन लेखक इलियास डेविड सन किसी कारण से इस समारोह में शरीक नहीं हुए, लेकिन उन्होंने अपने संदेश में कहा कि जो मुंबई हमले को एजेंसियों की विफलता बताया है। और इंटेलिजेंस का रोल बेहद संदिग्ध है .मसं ने स्पष्ट किया कि उन्होंने उक्त किताब सभी तथ्यों, दस्तावेजों के बाद ही लिखा है, हमलों के स्थानों समीक्षा के अंश और सामग्री के बाद ही किताब बनाई गई है|

डेविडसन इससे पहले अमेरिका के 9/11 हमले पर भी किताब लिख चुके हैं। इस अवसर पर मिली राजपत्र के ऐडीटर विद्वान ठफ़्रालासलाम कहा कि दरअसल आतंकवाद का उद्देश्य हथियारों के व्यापार और शक्तिशाली देश इसका फायदा उठा रहे है। उन्होंने आरोप लगाया कि आतंकवाद की आड़ में निर्दोषों को फंसाया जाता है और अमीर बच्चों और‌ युवाओं को निशाना बनाया जाता है। केवल 2 प्रतिशत मामले सच होते, लेकिन अन्य मामलों को देश की सुरक्षा से जोड़कर बेहद संवेदनशील बनाया जाता है।

TOPPOPULARRECENT