Saturday , December 16 2017

मुंबई हमले के बाद भारत को निशाना बनाना चाहता था अलकायदा: हेडली

मुंबई: पाकिस्तानी-अमेरिकी आतंकवादी डेविड हेडली ने आज कहा कि दिल्ली के राष्ट्रीय रक्षा कॉलेज पर हमले के लिए अल कायदा उससे संपर्क में था और तथा लश्कर-ए-तैयबा एवं आईएसआई मुंबई हवाई अड्डे, बार्क एवं नौसेना स्टेशन को निशाना बनाने की फिराक में थे।

अमेरिका से वीडियो लिंक के जरिए गवाही देते हुए विशेष न्यायाधीश जी ए सनप को बताया कि उसने शिवसेना के किसी सदस्य के साथ निकट संबंध बनाने की कोशिश की क्योंकि उसे लगा था कि लश्कर की भविष्य में शिवसेना भवन पर हमला करने या उसके प्रमुख :दिवंगत बाल ठाकरे: की हत्या करने में रचि होगी।

हेडली ने अपनी गवाही के चौथे दिन दावा किया कि उसने नौसेना स्टेशन और सिद्धिविनायक मंदिर पर हमले को लेकर लश्कर को मना किया क्योंकि इन स्थानों बहुत अधिक सुरक्षा व्यवस्था थी।

उसने कहा, ‘‘मैंने हमले के लक्ष्य के तौर पर जिन स्थानों की रेकी की थी, उनमें से कुछ स्थानों को लेकर मेजर इकबाल ने असहमति जाहिर की थी। मुझे लगा कि मेजर इकबाल इसलिए नाखुश थे क्योंकि मुंबई हवाईअड्डे को नहीं चुना गया था और 26:11 हमलों के लक्ष्य के रूप में उसे शामिल नहीं किया गया था।’’ इस आतंकी ने इस बारे में खुलासा किया कि मुंबई हमले के बाद अलकायदा भी भारत में हमले करने चाहता था।
उसने कहा, ‘‘26.11 हमले के बाद फरवरी, 2009 में मैं अलकायदा के इलियास कश्मीरी से मिला और उसने मुझसे कहा कि मैं फिर से भारत का दौरा करूं क्योंकि वे भारत में आतंकी गतिविधियों को अंजाम देना चाहते थे। उसने एनडीसी जैसे कुछ स्थानों का जिक्र किया था जो उनके मुख्य निशाने पर थे।’’ हेडली ने कहा कि एनडीसी मुख्य निशाने पर था क्योंकि यहां पर ब्रिगेडियर से लेकर जनरल स्तर के वरिष्ठ सैन्य अधिकारी होते हैं।

(सौजन्य-पीटीआई)

TOPPOPULARRECENT