Monday , December 18 2017

मुंबई हॉकर्स ने लोहे की रॉड से मनसे कार्यकर्ताओं को पीटा; पार्टी ने कांग्रेस नेता को ठहराया दोषी

मुंबई के मलाड रेलवे स्टेशन के इलाके में हाकरों ने शनिवार को महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) के कार्यकर्ताओं के एक समूह को पीटा, जब वे पश्चिम लाइन के पास अतिक्रमण की जांच करने गए थे।

महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के कार्यकर्ताओं को करीब 100 हॉकर्स की एक भीड़ ने छड़ी से पीटा और लाठी से हमला किया, जब उन्होंने उन्हें खाली करने की कोशिश की।

यह पहली बार है कि राज ठाकरे की अगुवाई वाली पार्टी, जो “मराठी मानूस” राजनीति की भूमिका निभाती है और “प्रवासी” मजदूरों और हॉकर को दूर करने के लिए जानी जाती है, के कार्यकर्ताओं पर हमला किया जो इनके खिलाफ अभियान चलाते हैं। पुलिस इस घटना की जांच कर रही है।

एक पुलिस अधिकारी का हवाला देते हुए डीएनए ने कहा, “वारदात करीब 3:15 बजे हुई और इसमें चार मनसे कार्यकर्ता घायल हो गए हैं।”

उन्होंने कहा, “उनमें से एक के सिर पर फ्रैक्चर हुआ है, जबकि तीन अन्य लोगों को मामूली चोटें लगी हैं और उन्हें मालाड (वेस्ट) के जानवी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। कम से कम चार हमलावरों को हिरासत में लिया गया है।”

मनसे के मुताबिक, हाकरों का हमला कांग्रेस प्रमुख संजय निरुपम द्वारा करवाया गया था, जिन्होंने शनिवार की सुबह मालाड में हॉकरों के साथ बैठक की थी।

एमएनएस के एक अधिकारी ने अंग्रेजी दैनिक को बताया, “वे झूठ बोल रहे थे, हमला पहले से ही प्लान किया हुआ था।”

हालांकि निरुपम ने इस पर कोई टिप्पणी नहीं की, लेकिन उन्होंने कहा कि मनसे हॉकरों पर हमला करने में गलत थे।

निरुपम ने कहा, “हमने हॉकरों का समर्थन करने के लिए रैलियों का आयोजन किया है और मनसे के कार्यकर्ताओं को उन पर हमला करना बंद कर देना चाहिए। हॉकरों ने आत्मरक्षा में ऐसा किया, जो उनका अधिकार है। मुख्यमंत्री को इस मुद्दे पर विचार करना चाहिए और उत्तर भारतीयों को जो मनसे के कारण पीड़ित हैं, पुलिस को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि इस क्षेत्र में शांति रहे।”

2008 में उत्तरी भारतीय राज्यों से हॉकरों को लक्षित करके ठाकरे ने अपने अप्रवासी विरोधी, बाहरी बहिष्कार अभियान शुरू किया था।

जब सितम्बर में एलिफिंस्टोन रोड रेलवे स्टेशन पर भगदड़ मची थी, तो कहा गया था कि पुल पर हॉकरों और विक्रेताओं की उपस्थिति भगदड़ से हुई अराजकता को बढ़ाती है।

ठाकरे ने रेलवे स्टेशनों, फुट ओवर ब्रिज और रेलवे परिसर से हॉकर्स को हटाने के लिए 15 दिन की समय सीमा भी दी।

हालांकि, मनसे ने मामले को खुद अपने हाथ में ले लिया, जब रेलवे समय सीमा को पूरा करने में विफल रहे, और ठाणे, कल्याण, वसई, नालासोपारा और वडाला रेलवे स्टेशनों के बाहर विक्रेताओं पर हमला करना शुरू कर दिया।

TOPPOPULARRECENT