Saturday , June 23 2018

मुखबिरों की मदद से मुस्लिम नौजवानों की निशानदेही

सइदाबाद और मादना पेट में फ़िर्का वाराना फ़साद के बाद पुलिस मुस्लिम नौजवानों पर अंधा धुंद मोक़द्दमात दर्ज करते हुए कई नौजवानों की गिरफ़्तारी अमल में लारही है। एसा लगता है कि साल 2007 में पेश आए मक्का मस्जिद बम धमाका केस के बाद सिटी

सइदाबाद और मादना पेट में फ़िर्का वाराना फ़साद के बाद पुलिस मुस्लिम नौजवानों पर अंधा धुंद मोक़द्दमात दर्ज करते हुए कई नौजवानों की गिरफ़्तारी अमल में लारही है। एसा लगता है कि साल 2007 में पेश आए मक्का मस्जिद बम धमाका केस के बाद सिटी पुलिस ने क्राईम नंबर 198/2007 के तहत एक मुजरिमाना साज़िश का मुक़द्दमा दर्ज किया था जिस में सैंकड़ों मुस्लिम नौजवानों को माख़ूज़ किया गया था जो बाद अज़ां बाइज़्ज़त बरी होगए थे

इस के बाद अब पुराने शहर में फ़िर्का वाराना फ़सादके बाद पुलिस मुख़्तलिफ़ मुक़द्दमात दर्ज करते हुए 18 नौजवानों को माख़ूज़ कर दिया जब कि मज़ीद नौजवानों को माख़ूज़ करने के लिए उन्हें हनूज़ मफ़रूर बताया है । तफ़सीलात के बमूजब सइदाबाद-ओ-मादना पेट में फ़साद के दौरान आर टी सी बसों और ख़ानगी इमलाक पर मुबय्यना तौर पर हमला करने के इल्ज़ाम में स्पैशल इनवेसटीगेशन टीम ने 4 मुक़द्दमात क्राईम नंबर 126,128,130 और 133 दर्ज किए हैं जिस में ताज़ीरात हिंद के सख़्त दफ़आत लगाए गए हैं।

इन मुक़द्दमात में पुलिस ने जावेद ख़ान , अकबर ख़ान और मुहम्मद अली को गिरफ़्तार करते हुए सइदाबाद के इस्मील , फ़य्याज़ , आरिफ़ , सलीम ,तराना फ़य्याज़ , मुहतशिम बिल्लाह , शकील , ज़ीशान , ख़ालिद , रेहान , छोटू , अहमद हुसैन , कामरान , मुतवफ़्फ़ी मिजो और दीगर जिन के नाम ज़ाहिर नहीं किए गए को मफ़रूर बताया है । मज़कूरा मुक़द्दमात की तफ़सीलात में पुलिस ने नौजवानों की गिरफ़्तारी चंद तस्वीरें और मुक़ामी ज़राए (मुख़्बिर) की मदद से किए जाने की तौसीक़ की है।

सइदाबाद और दीगर इलाक़ों के नौजवानों में मफ़रूर नौजवानों की फ़हरिस्त मंज़र-ए-आम पर आने के बाद तशवीश की लहर दौड़ गई है चूँकि टास्क फ़ोर्स और दीगर पुलिस अमला इन नौजवानों के मकानात में जबरन दाख़िल होकर उन्हें गिरफ़्तार करने की कोशिश कर रहा है । कल रात पुलिस ने आसमान गढ़ के सैयद ग़ौस उर्फ़ मिजो को हरासानी का निशाना बनाते हुए इस का तआक़ुब करते हुए उन्हें गिरफ़्तार करने की कोशिश की थी

जिस के बाइस उस नौजवान ने इमारत से छलांग लगादी थी और बरसरे मौक़ा फ़ौत होगया। माख़ूज़ किए गए मुस्लिम नौजवानों के वालदैन का इल्ज़ाम है कि पुलिस मुक़ामी मुखबिरों की मदद से मंसूबा बंद तरीका से उन के बच्चों को फ़र्ज़ी मुक़द्दमात में गिरफ़्तार करने की कोशिश कररही है ।

TOPPOPULARRECENT