Tuesday , June 19 2018

मुख़्तलिफ़ सोच के इत्तिहादियों को मुशतर्का हल की तलाश

सऊदी फ़रमांरवा का पहला अमरीकी दौरा वाशिंगटन में शाही इसराफ़ की वजह से याद रखा जाएगा। इस दौरे पर बादशाह के साथ सैंकड़ों हुक्काम और कई दर्जन क़ीमती गाड़ियां भी अमरीका आईं थीं।

एक पुर आसाइश होटल के तमाम 222 कमरे सऊदी वफ़्द के लिए बुक करवाए गए थे। लेकिन इस दौरे से सऊदी अरब और अमरीकी लीडर दोनों ममालिक की मज़बूत दोस्ती का पैग़ाम देना चाहते थे।

इस दौरे के बाद जारी किए जाने वाले आलामीए में मज़बूत, गहरी, दाइमी दोस्ती जैसे अलफ़ाज़ इस्तेमाल किए गए थे। बयानबाज़ी से कतै नज़र एक चीज़ तो वाज़े है कि सऊदी अरब ने फ़ैसला किया है कि ईरान के साथ होने वाले जौहरी मुआहिदे के बाद दोनों ममालिक के ताल्लुक़ात में जो सर्द मेहरी पैदा हो गई थी उसे अब ख़त्म किया जाना चाहिए।

TOPPOPULARRECENT