Monday , December 11 2017

मुख्तार अंसारी की पार्टी कौमी एकता दल और सपा का होगा चुनावी गठबंधन

पूर्वी उत्तर प्रदेश के कई जिलो में प्रभाव रखने वाला मुख्तार अंसारी की कौमी एकता दल आगामी विधानसभा चुनाव में सत्तारूढ़ समाजवादी पार्टी से हाथ मिलाएगा। पार्टी सपा से गठबंधन कर सकती है या उसमें विलय भी हो सकता है।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

कौमी एकता दल के अध्यक्ष अफजाल अंसारी ने आज यहां ‘भाषा’ को बताया कि उनकी पार्टी की कल गाजीपुर में हुई बैठक में सर्वसम्मति से फैसला लिया गया कि साम्प्रदायिक ताकतों के मंसूबों को नाकाम करने के लिये समान विचारधारा के दलों का एक मंच पर आना जरूरी है। बैठक में तय किया गया कि कौएद सत्तारूढ़ सपा से हाथ मिलाएगा।

अंसारी ने बताया कि बैठक में पार्टी के सभी राष्ट्रीय तथा प्रान्तीय वरिष्ठ नेताओं के अलावा पार्टी के शुभचिन्तकों ने हिस्सा लिया। सपा से गठबंधन किया जाए या फिर उसमें पार्टी का विलय हो, इसका फैसला करने के लिये सभी नेताओं ने उन्हें अधिकृत किया है।

उन्होंने कहा कि वह आगामी 21 जून को लखनउ में पार्टी के वरिष्ठ नेताओं की मौजूदगी में अपने निर्णय से अवगत कराएंगे और उसे अमली जामा पहनाएंगे।

अंसारी ने बताया कि हाल में सम्पन्न विधान परिषद और राज्यसभा के चुनाव से ऐन पहले गत नौ जून को सपा के वरिष्ठ नेता बलराम यादव ने उनसे मुलाकात की थी और पार्टी का साथ देने की गुजारिश की थी। सपा का साथ देने का विचार उसी समय बन गया था।

उन्होंने कहा कि बिहार को साम्प्रदायिक शक्तियों से बचाने के लिये जब लालू यादव और नीतीश कुमार अपने सारे मतभेद भुलाकर एक हो गये तो उत्तर प्रदेश में भी ऐसी ही पहल की जरूरत है। साम्प्रदायिक शक्तियों के खिलाफ लड़ने वाले सभी दलों को एक मंच पर आना चाहिये।

गौरतलब है कि मउ सदर से मुख्तार अंसारी और गाजीपुर के मुहम्मदाबाद यूसुफपुर से सिबगतउल्लाह अंसारी कौमी एकता दल के विधायक हैं।

इनपुट – भाषा

TOPPOPULARRECENT