Monday , July 23 2018

मुख्तार अब्बास नकवी ने प्रधानमंत्री की ओर से दरगाह अजमेर शरीफ में चढ़ाई ‘चादर’!

केन्द्रीय अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने आज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की ओर से सूफी संत हजरत ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती, अजमेर शरीफ की दरगाह पर चादर चढ़ाई।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 806वें वार्षिक उर्स के अवसर पर ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती के भारत और विदेशों में रह रहे अनुयायियों को बधाई और शुभकामनाएं दीं। उन्होंने कहा “भारत के बारे में यह कहा जाता है कि शब्दों में भारत का बयान नहीं किया जा सकता, लेकिन इसे महसूस किया जा सकता है। शांति, एकता और सौहार्द देश में विभिन्न दर्शनों का मूल है। सूफीवाद भी उन दर्शनों में एक है। जब हम भारत में सूफी संतों की बात करते हैं तो ख्वाज़ा मोइनुद्दीन चिश्ती महान आध्यात्मिक परम्पराओं का प्रतीक लगते हैं। गरीब नवाज़ द्वारा मानवता के लिए की गई सेवा आने वाली पीढ़ीयों को प्रेरित करती रहेगी”।

प्रधानमंत्री ने कहा “महान संत के वार्षिक उर्स के अवसर पर मैं दरगाह अजमेर शरीफ को चादर तथा खिराज-ए-अकीदत (श्रद्धांजलि) पेश करता हूं और अपनी संस्कृति के सौहार्दपूर्ण सहअस्तित्व की कामना करता हूं। वार्षिक उर्स के मौके पर दुनिया भर में फैले ख्वाज़ा मोइनुद्दीन चिश्ती के अनुयायियों को बधाई और शुभकामनाएं”।

प्रधानमंत्री की ओर से भेजी गई चादर का समाज के सभी वर्गों के लोगों ने हार्दिक स्वागत किया है।

इस अवसर पर श्री नकवी ने कहा कि आतंकवाद इस्लाम और पूरी मानवता दोनों के लिए सबसे बड़ा शत्रु है। यह संदेश महान सूफी संत ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती के सिद्धांतों और शिक्षा के मूल में है। उन्होंने कहा कि ख्वाज़ा गरीब नवाज के सिद्धांत और संकल्प मानवीय मूल्यों को कमजोर बनाने और विश्व की शांति और समृद्धि को बाधित करने का प्रयास करने वालों से निपटने का सबसे बड़ा हथियार है।

श्री नकवी ने कहा कि भारत पूरे विश्व के लिए सामाजिक और साम्प्रदायिक सौहार्द का उदाहरण है। हमें सामाजिक सौहार्द और एकता की बुनियाद को मजबूत बनाना होगा। उन्होंने कहा कि गरीब नवाज़ का जीवन हमें साम्प्रदायिक और सामाजिक सौहार्द को मजबूत करने के लिए प्रेरित करता है। यह एकता उन ताकतों को पराजित कर सकती है जो समाज को बांटने और लड़ाने के षड़यंत्र में शामिल हैं। श्री नकवी ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के सशक्त नेतृत्व में सरकार का एकमात्र एजेंडा “देश का विकास, विश्वास का माहौल है। हमारा मंत्र ‘सबका साथ, सबका विकास’ है। उन्होंने कहा कि विश्व शांति के लिए प्रभावी संकल्प ख्वाज़ा मोइऩुद्दीन का संदेश है।

श्री नकवी ने दरगाह के निकट विश्रामस्थली कयाद में अल्पसंख्यक मंत्रालय द्वारा बनाए गए एक सौ शौचालयों के परिसर का उद्घाटन भी किया। बड़ी संख्या में दरगाह आने वाले ज़ायरीन इस सुविधा से लाभांवित होंगे। श्री नकवी ने अधिकारियों के साथ अजमेर दरगाह से संबंधित जारी विभिन्न सरकारी कार्यों की समीक्षा भी की।

TOPPOPULARRECENT