मुझे चुनाव प्रचार के लिए अब हिंदू भाई नहीं बुलाते हैं- गुलाम नबी आजाद

मुझे चुनाव प्रचार के लिए अब हिंदू भाई नहीं बुलाते हैं- गुलाम नबी आजाद
Click for full image

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद के एक बयान पर विवाद हो गया है। आजाद ने बुधवार को कहा कि कांग्रेस के ‘हिंदू’ उम्मीदवार उन्हें चुनाव प्रचार के लिए नहीं बुलाते। कांग्रेस नेता ने कहा कि चुनाव प्रचार के लिए बुलाने से लोग ‘डरते’ हैं। उन्होंने कहा कि पहले चुनाव प्रचार के लिए उनकी काफी मांग रहती थी लेकिन पिछले चार सालों में इस मांग में भारी कमी आई है। आजाद के इस बयान पर भाजपा ने आलोचना की है और कहा है कि आजाद का यह बयान हिंदुओं का ‘अपमान’ करने का प्रयास है।

लखनऊ में अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के संस्थापक सर सैयद अहमद खान की 201वीं जयंती के मौके पर यहां के पूर्व छात्रों को संबोधित करते हुए आजाद ने कहा, ‘युवा कांग्रेस के दिनों से ही मैं अंडमान से लेकर लक्षद्वीप तक चुनाव प्रचार करता आया हूं और चुनाव-प्रचार के लिए मुझे बुलाने वाले 95 प्रतिशत हिंदू होते थे। मुझे चुनाव प्रचार के लिए बुलाने वाले मुस्लिम नेताओं एवं भाइयों की संख्या महज पांच प्रतिशत हुआ करती थी।’

कांग्रेस नेता ने कहा, ‘लेकिन पिछले चार सालों में मैंने देखा है कि यह 95 प्रतिशत की संख्या कम होकर 50 प्रतिशत हो गई है। इसका मतलब है कि कहीं न कहीं कुछ गलत है। आज लोग मुझे बुलाने से डरते हैं। लोग सोचते हैं कि इसका वोटर पर क्या असर होगा।’ उन्होंने कहा कि एक खास पार्टी के कुछ लोगों की तरफ से विश्वविद्यालय का नाम खराब करने की कोशिश की जा रही है।

Top Stories