Monday , June 18 2018

मुद्रा बंद करने से नराज बैंक यूनीनस

दो बड़े बैंक यूनियनों ने 500 और 1000 रुपये के नोटों का चलन बंद करने सरकार के फैसले की आलोचना की है और कहा कि इसके परिणाम स्वरूप आर्थिक नराज की स्थिति पैदा हो गई है। इंडियन बैंक्स एसोसिएशन के नाम एक पत्र में ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर्स एसोसिएशन और ऑल इंडिया बैंक एम्पलाईज़ एसोसिएशन ने कहा कि बड़े नोटों का चलन बंद करने का फैसला एक उचित योजना और तैयारी के बिना किया गया था।

उन्होंने कहा कि नोटों का चलन बंद करने और उन्हें बदलने की घोषणा के बाद देश भर में सभी बैंक बराँचस कर्मचारियों और अधिकारियों के काम का बोझ भी बढ़ गया है। महासचिव अखिल भारतीय बैंक ऑफिसर्स एसोसिएशन सी नागराजन और ऑल इंडिया बैंक एम्पलाईज़ एसोसिएशन के महासचिव सी एच वेंकट चिलम ने अपने पत्र में कहा कि देश भर में बैंक बराँचस पर नराज की स्थिति पैदा हो रही है और यह स्थिति ग्राहकों और बैंक कर्मचारियों और अधिकारियों दोनों के लिए असहनीय है।

उन्होंने कहा कि 100 रुपये के नोटों की मांग बढ़ गई है और अब यह बहुत अधिक मांग की जा रही है। अधिकांश उपभोक्ता 2000 रुपये की नई नोट स्वीकार करने तैयार नहीं हैं। उन्होंने कहा कि बड़े मुद्रा नोट बंद करने के कारण किसी की समझ में नहीं आती है।

TOPPOPULARRECENT