मुलाज़मीन की सुबकदोशी उम्र में इज़ाफ़ा नहीं : यू पी हुकूमत

मुलाज़मीन की सुबकदोशी उम्र में इज़ाफ़ा नहीं : यू पी हुकूमत
लखनऊ 18 मार्च ( पी टी आई ) हुकूमत उत्तरप्रदेश ने आज कहा कि वो रियासती सरकारी मुलाज़मीन की सुबकदोशी की उम्र में मौजूदा 60 साल से मज़ीद इज़ाफ़ा करने की कोई तजवीज़ नहीं रखती । रियासती असेम्बली में वकफ़ा-ए-सवालात के दौरान इस सवाल पर कि आया रियास

लखनऊ 18 मार्च ( पी टी आई ) हुकूमत उत्तरप्रदेश ने आज कहा कि वो रियासती सरकारी मुलाज़मीन की सुबकदोशी की उम्र में मौजूदा 60 साल से मज़ीद इज़ाफ़ा करने की कोई तजवीज़ नहीं रखती । रियासती असेम्बली में वकफ़ा-ए-सवालात के दौरान इस सवाल पर कि आया रियासती हुकूमत ने तक़र्रुर की उम्र में इज़ाफ़ा करते हुए जब उसे 40 साल करदिया है तो क्या सुबकदोशी की उम्र में भी इज़ाफ़ा किया जाएगा ताकि मुलाज़मीन को तमाम सरकारी मुराआत हासिल हो सकीं वज़ीर पारलीमानी उमूर आज़म ख़ान ने कहा कि हुकूमत सुबकदोशी की उम्र में इज़ाफ़ा की कोई तजवीज़ नहीं रखती ।

ख़ान ने कहा कि अगर सबकदोशी की उम्र में इज़ाफ़ा किया जाये तो इस से तालीमयाफ्ता बेरोज़गारों के हुक़ूक़ सल्ब होंगे । ये इक़दाम दुरुस्त है कि जो लोग 40 साल की उम्र में सरकारी मुलाज़मत में शामिल हो रहे हैं उन्हें सबकदोशी के वक़्त कम मुराआत और सहूलयात दस्तयाब हो । ताहम रियासती हुकूमत का जहां तक सवाल है वो सबकदोशी की उम्र में इज़ाफ़ा करने की कोई तजवीज़ नहीं रखती ।

साइबर जराइम में इज़ाफ़े से मुताल्लिक़ दीगर अरकान के ज़िमनी सवालात के जवाब देते हुए आज़म ख़ान ने कहा कि इन जराइम की रोक थाम आसान नहीं है जो बैरून मुल्क बैठ कर किए जाते हैं। बाअज़ अरकान ने ख़ुद लखनऊ और आगरा में बैठ कर किए जाने वाले साइबर जराइम की रोक थाम में नाकामी पर हुकूमत पर तन्क़ीद की

Top Stories