Wednesday , June 20 2018

मुल्क की पाँच रियासतों के असेंबली इंतेख़ाबी नताइज का आज ऐलान

मुल़्क की पाँच रियासतों उत्तर प्रदेश उतर खंड पंजाब मनी पुर और गोवा में हुए इंतेख़ाबात की राय शुमारी का काम कल होगा। इन इंतेख़ाबात को मिनी आम इंतेख़ाबात क़रार दिया गया था और उनके नताइज मुल़्क की सियासत पर यक़ीनी तौर पर असर अंदाज़ हो

मुल़्क की पाँच रियासतों उत्तर प्रदेश उतर खंड पंजाब मनी पुर और गोवा में हुए इंतेख़ाबात की राय शुमारी का काम कल होगा। इन इंतेख़ाबात को मिनी आम इंतेख़ाबात क़रार दिया गया था और उनके नताइज मुल़्क की सियासत पर यक़ीनी तौर पर असर अंदाज़ हो सकते हैं।

वोटों की गिनती का काम सुबह 8 बजे से शुरू होगा और इम्कान है कि पहले नताइज वोटों की गिनती के आग़ाज़ से एक या दो घंटे बाद मिलना शुरू हो जाएंगे । शाम तक तमाम ही नताइज के मंज़रे आम पर आ जाने की उम्मीद है । नताइज से जुमला 690 असेंबली नशिस्तों के उम्मीदवारों का फैसला होगा ।

इनमें 403 नशिस्तें उत्तर प्रदेश में 117 नशिस्तें पंजाब में 70 नशिस्तें उत्तरा खंड में 60 नशिस्तें मनीपुर में और 40 नशिस्तें गोवा में हैं । ये इंतेख़ाबात 2009 के गुज़श्ता लोक सभा इंतेख़ाबात और 2014 में होने वाले मुजव्वज़ा लोक सभा इंतेख़ाबात के वस्त में मुनाक़िद हुए हैं और समझा जा रहा है कि लोक सभा से क़ब्ल ये यू पी ए और एन डी के इलावा दीगर जमातों के लिए अमला सेमीफाइनल की अहमियत के रहे हैं।

एक के बाद एक मुख़्तलिफ़ तनाज़आत का शिकार होने वाली कांग्रेस पार्टी इन इंतेख़ाबी नताइज के ज़रीया अपने इमेज को बेहतर बनाने और सयासी ताक़त में इज़ाफ़ा करने की कोशिश में है तो अपोज़ीशन जमाअतें चाहती हैं कि 2014 के इंतेख़ाबात से क़ब्ल अपनी तैयारीयों को मज़ीद मुस्तहकम कर दिया जाये ।

कांग्रेस पार्टी उत्तर प्रदेश में अपने इंतेख़ाबी इम्कानात को बेहतर बनाने के लिए सर धड़ की बाज़ी लगा चुकी है ताहम कयास किया जा रहा है कि उसे इतनी कामयाबी हासिल नहीं होगी जितनी उसे तवक़्क़ो है । कांग्रेस पार्टी के लिए अपनी हलीफ़ तृणमूल कांग्रेस की दबाव की पॉलीसी और इख्तेलाफ़ात की वजह से मुश्किलात में इज़ाफ़ा ही हो रहा है ।

जहां तक बी जे पी का सवाल है उसे भी मुश्किलात का सामना है की उनका उत्तरा खंड में पार्टी को इक़्तेदार बरक़रार रखने काफ़ी जद्द-ओ-जहद करनी पड़ी है और अगर यहां कांग्रेस को मुस्तहकम मौक़िफ़ हासिल हो जाता है तो वो इसके लिए मुश्किलात बढ़ सकती हैं। इसी तरह पंजाब में भी एन डी ए को अपनी हुकूमत को बरक़रार रखने में सख़्त मुश्किलात का सामना हो सकता है।

मायावती के इक़्तेदार वाली रियासत उत्तर प्रदेश में राहुल गांधी ने कांग्रेस की इंतेख़ाबी मुहिम का ज़िम्मा उठाया था जहां कांग्रेस पार्टी 357 नशिस्तों पर मुक़ाबला कर रही थी । इसने आर अल डी के साथ इत्तेहाद किया था । गुज़श्ता असेंबली इंतेख़ाबात में पार्टी को यहां सिर्फ 22 नशिस्तें हासिल हुई थीं ताहम इसने गुज़श्ता लोक सभा इंतेख़ाबात में यहां बेहतरीन मुज़ाहरा करते हुए लोक सभा की 22 नशिस्तों पर कामयाबी हासिल की थी जिस से समाजवादी पार्टी बहुजन समाज पार्टी और बी जे पी का भारी नुक़्सान हुआ था ।

बरसर ए इक़्तेदार बी एस पी ने तमाम 403 नशिस्तों पर अपने उम्मीदवार नामज़द किए थे जबकि एस पी ने यहां 402 नशिस्तों पर अपने उम्मीदवार नामज़द किए हैं। बी जे पी ने 398 और आर एल डी ने 46 हलक़ों से मुक़ाबला किया है । एग्ज़िट पोल्स में यहां मुअल्लक़ असेंबली की पेश क़यासी की गई है और कहा गया है कि समाजवादी पार्टी वाहिद बड़ी जमात के तौर पर उभर सकती है ।

गुज़शता असेंबली इंतेख़ाबात में बी एस पी ने 206 हलक़ों से कामयाबी हासिल की थी और उसे अपने बल पर सादा अक्सरियत मिली थी । उस वक़्त इस ने एग्ज़िट पोल्स को ग़लत साबित कर दिया था । एस पी को 97 बी जे पी को 50 और आर एल डी को 10 नशिस्तें हासिल हुई थीं।

दूसरों के हिस्से में 17 नशिस्तें आई थीं। पंजाब में साबिक़ चीफ मिनिस्टर कैप्टन अमरेन्द्र सिंह की क़ियादत में कांग्रेस पार्टी एक बार फिर इक़्तेदार हासिल करने के ताल्लुक़ से पर उम्मीद नज़र आती है जहां बी जे पी । शिरोमणि अकाली दल इत्तेहाद की अवामी ताईद में वाज़िह कमी देखने में आई है । कांग्रेस यहां तमाम 117 नशिस्तों से मुक़ाबला कर रही है जबकि शिरोमणि अकाली दल 94 से और बी जे पी 23 हलक़ों से मुक़ाबला कर रही है ।

गुज़श्ता इंतेख़ाबात में अकाली दल को 50 और बी जे पी को 19 नशिस्तों से कामयाबी मिली थी । कांग्रेस ने 42 और आज़ाद ने 6 हलक़ों से कामयाबी हासिल की थी । उत्तराखंड में बी जे पी को 70 नशिस्तों में 36 पर कामयाबी के साथ सादा अक्सरियत हासिल हुई थी । इस बार उसे वहां सख़्त मुक़ाबला दरपेश है । इस ने चीफ मिनिस्टर रमेश पोखरियाल निशा निक को इंतेख़ाबात से क़ब्ल तब्दील करते हुए क़ियादत मिस्टर बी सी खंडूरी को ज़िम्मेदारी सौंपी थी जिन्हें हालात को बेहतर बनाने ज़्यादा वक़्त नहीं मिल सका था ।

यहां बी जे पी कांग्रेस और बी एस पी तमाम 70 नशिस्तों से मुक़ाबला कर रही हैं । कांग्रेस को गुज़शता इंतेख़ाबात में 20 और बी एस पी को 8 नशिस्तों पर कामयाबी मिली थी । इसी तरह मनीपुर में कांग्रेस को 60 मैं 31 नशिस्तों पर कामयाबी के साथ सादा अक्सरियत मिली थी । जबकि मनी पुर पीपल्ज़ पार्टी ने पाँच एन सी पी और सी पी आई ने चार चार नेशनल पीपल्ज़ पार्टी और लालू यादव की आर जे डी ने तीन तीन नशिस्तें जीती थीं।

चीफ मिनिस्टर आई बोबी सिंह को इस बार सख़्त इम्तेहान से गुज़रना पड़ा है लेकिन पार्टी को किसी मुत्तहदा अपोज़ीशन की अदमे मौजूदगी में कामयाबी की उम्मीद है । एग्ज़िट पोल्स में यहां कांग्रेस इक़्तेदार की बरक़रारी का इम्कान ज़ाहिर किया गया है । गोवा में भी कांग्रेस हुकूमत है और यहां भी पार्टी को सख़्त मुक़ाबला दरपेश था । बी जे पी ने भी यहां अच्छा मुज़ाहरा किया है ।

यहां कांग्रेस और एन सी पी में और बी जे पी-ओ-एम जी पी में इत्तेहाद है । गैरकानूनी कानकनी यहां एक मसला था लेकिन मुक़ामी दीगर मसाइल भी इंतेख़ाबात पर असर अंदाज़ हुए हैं। यहां गुज़श्ता इंतेख़ाबात में कांग्रेस को 16 बी जे पी को 14 एन सी पी को तीन नशिस्तें मिली थीं । इस बार भी दोनों में सख़्त मुक़ाबला की उम्मीद की जा रही है ।

TOPPOPULARRECENT