मुल्क के लिए जो बेहतर होगा वो करेंगे

मुल्क के लिए जो बेहतर होगा वो करेंगे
नई दिल्ली, ३० सितंबर ( पी टी आई ) रीटेल शोबा ( Retail Sector) में रास्त बैरूनी सरमाया कारी ( विदेशी निवेशकों) की इजाज़त और दीगर सख़्त फैसलों पर होने वाली तन्क़ीदों ( टिप्पणी) से क़ता नज़र वज़ीर ए आज़म डाक्टर मनमोहन सिंह ने आज इशारा दिया कि हुकूमत इस्

नई दिल्ली, ३० सितंबर ( पी टी आई ) रीटेल शोबा ( Retail Sector) में रास्त बैरूनी सरमाया कारी ( विदेशी निवेशकों) की इजाज़त और दीगर सख़्त फैसलों पर होने वाली तन्क़ीदों ( टिप्पणी) से क़ता नज़र वज़ीर ए आज़म डाक्टर मनमोहन सिंह ने आज इशारा दिया कि हुकूमत इस्लाहात का अमल जारी रखेगी ।

उन्होंने कहा कि हुकूमत अपनी हलीफ़ ( मित्र) जमातों से तमाम मसाइल ( सम्स्याओं) पर तबादला ख़्याल ( बात चीत) के लिए तैयार है । उन्होंने कहा कि जो कुछ मुल्क के लिए बेहतर होगा हम करेंगे । इस्लाहात एक मरहला ( चरण) में होने वाला अमल नहीं है ।

वज़ीर ए आज़म से मुतालिबा किया गया था कि रीटेल शोबा में बैरूनी सरमाया कारी (विदेशी निवेशकों) की इजाज़त से दसतबरदारी इख़तियार कर ली जाय डीज़ल कीमतों में इज़ाफ़ा से दसतबरदारी इख़तियार कर ली जाय और पकवान गैस सिलेंडर्स की तादाद में जो तख़फ़ीफ़ (कमी) की गई है वो ख़त्म की जाय ।

उन्होंने कहा कि इस्लाहात का अमल जारी रहेगा। कुछ हलीफ़ ( मित्र) जमातों की जानिब से हुकूमत के फैसलों पर एतराज़ से इंतिख़ाबी इमकानात ( चुनाव की आशंका) मुतास्सिर होने से मुताल्लिक़ ख़्याल पर डाक्टर सिंह ने कहा कि तमाम मसाइल ( समस्याओं) पर बात चीत की जा सकती है जबकि अभी इंतिख़ाबात ( चुनाव होना) बहुत दूर हैं।

डाक्टर मनमोहन सिंह नए चीफ जस्टिस जस्टिस अल्तमिश कबीर की हलफ़ बर्दारी तक़रीब ( सपथ ग्रहण सामारोह) के मौक़ा पर सहाफ़ीयों ( पत्रकारों) से बात चीत कर रहे थे ।

गुज़शता हफ़्ते में यू पी ए की राबिता कमेटी का इजलास ( सभा) मुनाक़िद (आयोजित) हुआ था जिस में रीटेल शोबा में बैरूनी सरमाया कारी की इजाज़त और दीगर उमूर पर तबादला ख़्याल किया गया था । चीफ मिनिस्टर गुजरात के इस इल्ज़ाम के ताल्लुक़ से कि बैरूनी सरमाया कारी की इजाज़त अमेरीका की हिदायत पर दी गई है इस्तिफ़सार (सवाल / प्रश्न) पर वज़ीर ए आज़म ने कहा कि इसका अमेरीका से क्या ताल्लुक़ हो सकता है ? ।

हम वो मुल्क नहीं हैं जो दूसरों के इशारों पर काम करते हैं। तृणमूल कांग्रेस सरबराह ममता बनर्जी की जानिब से उन पर तन्क़ीदों ( टिप्पणी) के ताल्लुक़ से सवाल पर उन्होंने कहा कि उन्हें इस से कोई तकलीफ नहीं है। उन्होंने कहा कि क़ुदरती वसाइल (साधन/ ज़रिए) के हराज (नीलाम) के ताल्लुक़ से सुप्रीम कोर्ट की राय का हुकूमत एहतिराम ( सम्मान) करेगी ।

Top Stories