Friday , December 15 2017

मुल्क के 5 शहरों में अनक़रीब प्लास्टिक के नोट मुतआरिफ़: चिदम़्बरम

नई दिल्ली, 14 दिसंबर: ( पीटीआई) वज़ीर मालियात पी चिदम़्बरम ने आज एक अहम बयान देते हुए कहा कि सरहद पार से जाली करंसी सरबराह की जाती है जो हुकूमत के लिए एक मुस्तक़िल मसला और दर्द-ए-सर बन चुका है लेकिन इसके तदारुक के लिए भी हुकूमत मूसिर इक़द

नई दिल्ली, 14 दिसंबर: ( पीटीआई) वज़ीर मालियात पी चिदम़्बरम ने आज एक अहम बयान देते हुए कहा कि सरहद पार से जाली करंसी सरबराह की जाती है जो हुकूमत के लिए एक मुस्तक़िल मसला और दर्द-ए-सर बन चुका है लेकिन इसके तदारुक के लिए भी हुकूमत मूसिर इक़दामात कर रही है ।

राज्य सभा में वकफ़ा-ए-सवालात के दौरान उन्होंने कहा कि जाली करंसी का मसला सरहद पार से पैदा हुआ है । इस मुआमला में इन्होंने किसी मख़सूस मुल्क का नाम नहीं लिया अलबत्ता ये ज़रूर कहा कि जाली करंसी के मसला से निपटने के लिए उऩ्हें बंगला देश और नेपाल से भरपूर तआवुन मिल रहा है ।

बहरहाल मूसिर इक़दामात किए जा रहे हैं ताकि जाली करंसी मुल्क की सरहदों में दाख़िल ना हो सके । उन्होंने कहा कि इस मसला से मूसिर तौर पर निपटने के लिए नैशनल इंवेस्टीगेशन एजेंसी (NIA) और बैंक्स की तमाम शाख़ों पर नोटों की जांच पड़ताल वाली मशीनों की ख़िदमात हासिल की गई हैं ।

वैसे तो अब तमाम बैंक्स में नोट गिनने वाली मशीनें लगाई जा चुकी हैं जिन से बैयकवक्त ग्राहकों और मुलाज़मीन के वक़्त की बचत हो रही है अब जाली और असली नोटों की शनाख़्त करने वाली मशीनों से भी मसाइल के हल में आसानी पैदा हो गई । चिदम़्बरम ने कहा कि एक आम शिकायत ये भी पाई जाती है कि कम मालियत वाले करंसी नोट्स जल्द मैले हो जाते हैं और फट जाते हैं लिहाज़ा रिज़र्व बैंक आफ़ इंडिया हुकूमत के साथ मुशावरत करते हुए Polymer बैंक नोटिस को मुतआरिफ़ करने ग़ौर व ख़ोज़ करेगी ।

इब्तिदा में सिर्फ़ पाँच शहरों में दस रुपये की क़दर वाले दस बिलीयन नोट्स मुतआरिफ़ किए जाएंगे जो बिलकुल्लिया आज़माईशी तौर पर मुतआरिफ़ किए जाएंगे । ये नोट्स Polymer के होंगे । ये Polymer नोट्स दरअसल प्लास्टिक के नोट्स जैसे होंगे जिनकी ज़िंदगी तवील होगी और काफ़ी टिकाऊ होंगे ।

उन्होंने अलबत्ता वज़ाहत की कि प्लास्टिक के नोट्स मुतआरिफ़ करने का असल मक़सद नोट्स की ज़िंदगी में इज़ाफ़ा है ना कि जाली नोटों के ख़िलाफ़ कोई रोक थाम। उन्होंने कहा कि दी एनर्जी ऐंड रीसोर्सेस इंस्टीटियूट की जानिब से किए गए एक हालिया तजज़िया से ये बात सामने आई है कि प्लास्टिक के नोट काग़ज़ के नोटों से ज़ाइद माहौलीयात दोस्त होते हैं ।

TOPPOPULARRECENT