Monday , June 25 2018

मुश्किल में कांग्रेस के बड़े लीडर

लोकसभा इंतिख़ाब के तीन मराहिलों के वोट के बाद अब कांग्रेस के आला कियादत के पास जमीनी रिपोर्ट आने लगी है। पार्टी जेनरल सेक्रेटरी को मिल रहे फीडबैक के मुताबिक, कांग्रेस के कई बड़े उम्मीदवारों के खिलाफ नेगेटिव रिपोर्ट है। उत्तर प्र

लोकसभा इंतिख़ाब के तीन मराहिलों के वोट के बाद अब कांग्रेस के आला कियादत के पास जमीनी रिपोर्ट आने लगी है। पार्टी जेनरल सेक्रेटरी को मिल रहे फीडबैक के मुताबिक, कांग्रेस के कई बड़े उम्मीदवारों के खिलाफ नेगेटिव रिपोर्ट है। उत्तर प्रदेश, पंजाब, उत्तराखंड, राजस्थान, छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश समेत कई रियासतों में पार्टी के कई नामी उम्मीदवार भाजपा के सामने कमजोर पड़ रहे हैं। वहीं, भाजपा के कई लीडर कमजोर उम्मीदवार होने के बावजूद पार्टी के वजरी आजम उम्मीदवार नरेंद्र मोदी की वजह से वे कांग्रेस उम्मीदवारों को परेशान कर रहे हैं। कांग्रेस के कई जेनरल सेक्रेटरी यह भी बता रहे हैं कि भाजपा के कई बड़े उम्मीदवार, जो हारने की हालत में थे, अब मोदी की वजह से इंतिखाबी मुकाबले में बढ़त की हालत में आ गये हैं।

मोदी के नारे का असर

कांग्रेस जेनरल सेक्रेटरी को जमीनी सतह से मिली रिपोर्ट में कहा गया है कि उत्तर प्रदेश और बिहार जैसे बड़े रियासतों में नरेंद्र मोदी का 24 घंटे बिजली देने का वायदा सबसे ज्यादा असर कर रहा है। पार्टी के एक जेनरल सेक्रेटरी ने बताया कि शाहजहांपुर लोकसभा सीट पर भाजपा की उम्मीदवार कृष्णा राज को गुजिशता एसेम्बली इंतिख़ाब में महज़ 11 हजार वोट मिले थे। मगर मोदी के मुहिम के चलते वह कांग्रेस उम्मीदवार चेत राम के लिए परेशानी का सबब बन गयी हैं। उम्मीदवार ने हाइकमान को शिकायत दर्ज करायी है कि राहुल गांधी की रैली उनके यहां नहीं होने के चलते उनकी हालत कमजोर पड़ती जा रही है। पीलीभीत से मेनका गांधी के खिलाफ काफी मुखालिफत है। मगर मोदी के असर के चलते उनकी नैया भी पार हो सकती है।

ये लीडर भी हैं फंसे

सुल्तानपुर में वरुण गांधी भले मोदी की तशहीर में कम ज़िक्र कर रहे हों, मगर कांग्रेस की अंदरूनी रिपोर्ट में यहां भी मोदी का फैक्टर है। लखनऊ में रीता बहुगुणा जोशी भी मुश्किल में घिर गयी हैं। पार्टी की रिपोर्ट है कि सपा की तरफ से अभिषेक मिश्र को मैदान में उतारे जाने के बाद बहुगुणा की मुश्किलें ज्यादा बढ़ गयी हैं। इसी तरह उत्तराखंड में हरिद्वार, टिहरी और गढ़वाल की सीट से पार्टी को नेगेटिव रिपोर्ट मिली है। हरिद्वार से वजीरे आला हरीश रावत की बीवी रेणुका रावत और टिहरी से कामयाब बहुगुणा उम्मीदवार हैं। उधर, पंजाब में आनंदपुर साहिब से अंबिका सोनी और गुरुदासपुर से रियासती कांग्रेस सदर प्रताप सिंह बाजवा के भी इंतिखबी मुश्किलों में फंसे होने की रिपोर्ट मिल रही है। अमृतसर में तो अरुण जेटली के मुकाबले कैप्टन अमरिंदर सिंह दूर-दूर तक नहीं हैं। यही हाल राजस्थान का भी है। सीपी जोशी, सचिन पायलट, ज्योति मिर्धा, नमोनारायण मीणा और गिरिजा व्यास को मुश्किलों को सामना करना पड़ रहा है, तो छत्तीसगढ़ से महासमुंद से अजित जोगी भी मुसीबत में हैं।

TOPPOPULARRECENT