Monday , December 18 2017

मुसलमानों की तरक़्क़ी का राज़ दिनी व तकनीकी तालीम : मौलाना इसमाईल वली

हिंदुस्तान में उस वक़्त तक मुसलमान तालीम शोबा में आगे नहीं बढ़ सकते जब तक वो अपने बच्चे और बच्चियों को दिनी तालीम के साथ साथ तकनीकी तालीम से लैस न करें। इस के बाद ही उनकी तरक़्क़ी मुमकिन है। इन खयालात का इज़हार जमा दारुल कुरान के जेरे एह

हिंदुस्तान में उस वक़्त तक मुसलमान तालीम शोबा में आगे नहीं बढ़ सकते जब तक वो अपने बच्चे और बच्चियों को दिनी तालीम के साथ साथ तकनीकी तालीम से लैस न करें। इस के बाद ही उनकी तरक़्क़ी मुमकिन है। इन खयालात का इज़हार जमा दारुल कुरान के जेरे एहतेमाम तालीम और उनके असरात के मौजू पर मुनक्कीद एक सेमिनार से खिताब हुये मेहमान खुसुसि हाजी इसमाईल वली ने किया। ये सेमिनार का पंचायत के फ़ैकटी चौक पर मदरसा में किया गया था। इसमें मुल्क की मशहूर माहिर तालीम और सियासी सखसीयात के एलावह लोगों ने भी शिरकत की। इस मौके पर बतौर मेहमान आए कटिहार मेडिकल कॉलेज के चेयरमैंन अहमद अशफाक़ करीम ने कहा की इक़्तेसादी मंज़र नामा का सीधा तालुक तालीम से है। मुसलमानों में भी तालीम इंकलाब आ जाये तो पूरे मुल्क के मुसलमानों की इक़्तेसादी तस्वीर भी बदल जाएगी। उन्होने सीमांचल के मसायल का ज़िक्र करते हुये कहा की जम्हूरियत में लोगों को अपने वोट की ताक़त को पहचानना चाहिए और उसका सीधा इस्तेमाल करना चाहिए।

उन्होने लोगों से कहा की मैं सीमांचल की तरक़्क़ी और उसके हक़ के लिए पूरी ज़िंदगी जद्दो-जहद करता रहूँगा। इस मौके पर दारुल कुरान एजुकेशनल एंड वेल्फेयर ट्रस्ट के चेयरमैन अब्दुल कुद्दूस समशी ने मुल्क और बाइरून मुल्क के मेहमानों का खीर मकदम किया और ट्रस्ट की सरगरमियों से उन्हें रोशनास कराया जबकि जेनरल सेक्रेटरी मौलाना मोहम्मद आरिफ़ कासमी ने जामिया दारुल कुरान के तरक़्क़ीयात काम पर रौशनी डाली। इस तकरीब में एनसीपीयूएल नयी देहली के असिस्टेंट एडुकेशनल अफसर मोहम्मद फिरोज आलम, बिहार झारखंड के प्रोड्यूसर अबूबकर, सियासतदां मोहम्मद ज़ाहिद, सियासी माहिर मुफ़्ती अब्दुल वहाब, जोकी हाट के मुमकिना एसेम्बली उम्मीदवार मोहामद मुईज़ आलम, एलजेपी लीडर मुरशिद आलम, मौलाना लाल मोहम्मद, मौलाना इशहाक वगैरह ने लोगों को खिताब किया। इस तकरीब में मौलाना नसीम रहमानी, मौलाना अब्दुल मोबीन, मौलाना हाशमी, मौलाना हैदर, रिजवान अनवर वगैरह ने खुसुसि तौर से शिरकत की। ज़्यादातर लोगों ने अपने खिताब में दारुल कुरान की सरगरमियों की सताईश की।

TOPPOPULARRECENT