Monday , December 18 2017

मुसलमानों के दरमेयान बिखेर रहे हैं तालीम की रोशनी – आमिर अंसारी

मुंबई : एक ऐसे दौर में जहां मुसलमानों के बीच तालीम को लेकर भारी पसमांदगी है, मायूसी है, परेशानी व बेचैनी है एक सब के बावजूद एक नौजवान अपनी कोशिशों से तालीम की रोशनी बिखेरने में लगा हुआ है. इस नौजवान का नाम आमिर अंसारी है.

40 साल के आमिर पिछले 20 साल से लगातार शिक्षा के क्षेत्र में लगे हुए हैं. रसासन शास्त्र में ग्रेजुएट आमिर पेशे से एक सरकारी टीचर हैं. बीएड की डिग्री हासिल करके इस टीचिंग के पेशे में वो 1998 से लगे हुए हैं.

आमिर मुंबई में जोगेश्वरी इलाक़े के मदनी हाई स्कूल में पढ़ाते हैं बातचीत में आमिर ने कहा कि 2004-05 में महाराष्ट्र सरकार की ओर से मुझे काउंसीलिंग में एक साल का डिप्लोमा करने का मौक़ा मिला. दरअसल, ये एक सरकारी प्रोजेक्ट था, जिसके ज़रिए हर साल कुछ टीचरों का चयन करके उन्हें बच्चों के गाईडेंस व काउंसीलिंग के लिए तैयार किया जाता है. इस कोर्स से मुझे काफ़ी कुछ सीखने को मिला.

आमिर बताते हैं कि, पहले मैंने अपने ही स्कूल में काफ़ी कुछ एक्सपेरिमेंट किया, फिर जोगेश्वरी के बाक़ी स्कूलों में भी जाने लगा. इसी दौरान मैंने कुछ टीचरों का एक ग्रुप बनाया, जिसके ज़रिए अलग-अलग स्कूलों में करियर गाईडेंस व काउंसीलिंग का काम करने लगें. साथ ही टीचरों के प्रोफेशनल ग्रोथ पर काम करना शुरू किया. उनके लिए भी हमने कुछ प्रोग्राम तैयार किए. हमने इसमें इस बात का ध्यान दिया कि टीचर अपनी सलाहियतों में कैसे इज़ाफ़ा करें.

आमिर ने 2008 में मुंबई के साबू सिद्दीक़ी कॉलेज में महाराष्ट्र के बच्चों के लिए ‘करियर फेस्ट’ का आयोजन किया था. इस फेस्ट में 10 हज़ार से अधिक बच्चे शामिल हुए. तब से ये सिलसिला लगातार जारी है. इस तरह के 5 बड़े करियर फेस्ट का आयोजन आमिर कर चुके हैं.इस साल 11 दिसम्बर को हमारा छठा फेस्ट मुंबई के सबसे बड़े हॉल में रखा गया जिस ,इस हज़ारों छात्र शामिल होंगे, उन्होने करियर फेस्ट का नाम —‘हम होंगे कामयाब’ रखा गया है.इसमें हम काउंसीलिंग व गाईडेंस के अलावा अलग-अलग टॉक शो रखते हैं, जिनमें अलग-अलग फिल्ड के यंग अचीवर्स आकर बच्चों से बात और उनकी हौसला-अफ़ज़ाई करते हैं.

आमिर इन बच्चों के मां-बाप पर भी काम कर रहे हैं. आमिर का कहना है कि, आमतौर पर मां-बाप की शिकायत रहती है कि बच्चों को पढ़ाने के लिए पैसे नहीं हैं. तो ऐसे में हम उन्हें सरकारी स्कीमों और स्कॉलरशिप के बारे में बताते हैं. उसे हासिल करने के लिए जिन कागज़ातों की ज़रूरत होती है उसे बनवाते हैं.

आमिर का असल फोकस मुंबई के उर्दू स्कूल हैं. आमिर मानते हैं कि दूसरे स्कूलों की तुलना में ये स्कूल ‘इंफ्रास्ट्रक्चर’ व ‘एजुकेशन की क्वालिटी’ दोनों ही मामलों में ज़्यादा बेहतर नहीं हैं. ऐसे में हम टीचरों को इस बात की ट्रेनिंग देते हैं कि वो कैसे टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करके बच्चों को अच्छी तालीम दे सकते हैं. इसके लिए हर साल हम ई-लर्निंग पर 3-4 वर्कशॉप करते हैं. इसका फ़ायदा ये हो रहा है कि टीचर खुद अपना वीडियो बनाकर यू-ट्यूब पर अपलोड कर रहे हैं. बच्चों को क्लासरूम में दिखा रहे हैं.

आमिर बताते हैं कि, हमारा प्राईमरी एजुकेशन बहुत ज़्यादा खोखला हो चुका है. प्राईवेट एजेंसी ‘असर’ की रिपोर्ट बताती है कि कई मामलों में महाराष्ट्र के बच्चों की स्थिति यूपी-बिहार से भी बदतर है.

करियर गाईडेंस को लेकर आमिर भारत के दूसरे राज्यों ख़ासकर उत्तर प्रदेश, झारखंड, गोवा, दिल्ली, राजस्थान व गुजरात जा चुके हैं. इनका मानना है कि हमारे बच्चों के अंदर अहसास-कमतरी थोड़ी ज़्यादा है. हम उन्हें बताते हैं कि वो खुद को किसी से कमज़ोर न समझे. ऐसे कई उदाहरण हैं कि अब हमारे बच्चे हर फिल्ड में बेहतर कर रहे हैं. सिविल सर्विस में जाने वाले अंसार शेख़ को अब कौन नहीं जानता. 19 साल के इंजीनियरिंग का छात्र रिफ़त शाहरूख दुनिया का सबसे छोटा सेटेलाईट बना चुका है. 22 साल के साद मेनन पहला मिनी सुपर कम्प्यूटर बना चुके हैं. ये सब बच्चे गरीब घर से हैं, लेकिन आज पूरी दुनिया इन्हें जानती है. आज हमारे बच्चे राष्ट्रीय स्तर के हर इम्तिहान में काफी बेहतर कर रहे हैं.

आमिर को इस महत्वपूर्ण काम के लिए कई बार सम्मानित किया जा चुका है. कई बार उन्हें महाराष्ट्र सरकार की ओर से बेस्ट टीचर का अवार्ड मिल चुका है. वहीं 2016 में उन्हें सरकार की ओर से अपने बेहतर कारनामों की वजह से ‘गौरव पत्र’ भी मिला. इसके अलावा एनजीओ की तरफ़ से भी कई बार सम्मानित किया गया है 

 

 

 

TOPPOPULARRECENT