Sunday , December 17 2017

मुसलमानों को पंचायत राज चुनाव में तहफ़्फुज़ात हासिल

हैदराबाद 06 जुलाई: रियासत में जारीया माह होने वाले पंचायत राज इदारों के चुनाव में मुस्लिम अकलिय को बी सी ई ज़मुरा के तहत तहफ़्फुज़ात हासिल होंगे।

हैदराबाद 06 जुलाई: रियासत में जारीया माह होने वाले पंचायत राज इदारों के चुनाव में मुस्लिम अकलिय को बी सी ई ज़मुरा के तहत तहफ़्फुज़ात हासिल होंगे।

प्रिंसिपल सेक्रेटरी महिकमा पंचायत राज वि नागी रेड्डी ने इस सिलसिले में वज़ाहत करते हुए आज आर्डर जारी किए। इस तरह रियासत के पंचायत राज इदारों में पहली मर्तबा तहफ़्फुज़ात से इस्तिफ़ादा करते हुए मुस्लिम अकलियत से ताल्लुक़ रखने वाले अफ़राद ख़ासी तादाद में चुने जएगे।

साबिक़ में तहफ़्फुज़ात ना होने के सबब मजालिस मुक़ामी और पंचायत राज इदारों में मुस्लिम अकलियत के नुमाइंदों की तादाद इंतेहाई कम थी और उन्हें जनरल यानी खुले ज़मुरा की नशिस्तों पर मुक़ाबला करना पड़ रहा था।

इस ज़मुरा में सख़्त मुक़ाबले के बाइस अकलियत उम्मीदवारों की कामयाबी के इमकानात मौहूम थे। ये पहला मौक़ा है जबकि पंचायत राज इदारों में बी सी ई ज़मुरा के तहत मुस्लिम अकलियत को तहफ़्फुज़ात हासिल होंगे।

दिलचस्प बात तो ये हैके पंचायत राज इदारों में बी सी ई ज़मुरा के तहत मुस्लिम अकलियत को तहफ़्फुज़ात की फ़राहमी के बारे में 2जून 2011को ही इसवक़्त के प्रिंसिपल सेक्रेटरी डक्टर राजू शर्मा ने मेमो नंबर 6636 जारी किया था जिस में कमिशनर पंचायत राज को इत्तेला दी गई कि महिकमा ने बी सी ज़मुरा के तहत जो तहफ़्फुज़ात फ़राहम किए हैं इस में बी सी ई ज़मुरा भी शामिल है लिहाज़ा बी सी ई ज़मुरा को शामिल करने के लिए क़वाइद में तरमीम की कोई ज़रूरत नहीं।

जून 2011 की इस वज़ाहत को महिकमा के ओहदेदारों ने मंज़रे आम पर नहीं लाया जिस के बाइस दो दिन पहले पंचायत राज इदारों के चुनाव के बारे में आर्डर की इजराई तक भी रियासत की अक़लियतों बी सी ई ज़मुरा में तहफ़्फुज़ात से लाइलम थीं।

अक़लियतों को पंचायत राज इदारों में नुमाइंदगी से महरूम रखने के लिए होसकता हैके मुतअस्सिब ज़हन रखने वाले ओहदेदारों की ये कारस्तानी हो जिन्हों ने दो बरसों तक तहफ़्फुज़ात की फ़राहमी से मुस्लिम अक़लियत को लाइलम रखा।

चुनाव आर्डर की इजराई के बाद मुख़्तलिफ़ अकलियती तंज़ीमों, इदारों और ख़ुद डिस्ट्रिक्ट पंचायत ऑफीसर करनूल ने महिकमा पंचायत राज से इस सिलसिले में वज़ाहत तलब की।

प्रिंसिपल सेक्रेटरी वि नागी रेड्डी ने आज मेमो नंबर 16240 जारी करते हुए वज़ाहत की के ज़िला कलेक्टरस और डिस्ट्रिक्ट पंचायत ऑफीसरस बी सी ई ज़मुरा के तहत मुस्लिम अकलियत को तहफ़्फुज़ात के बारे में 2 जनवरी 2011को जारी करदा वज़ाहत के मुताबिक़ कार्रवाई करें।

मेमो में बताया गया हैके सेक्रेटरी स्टेट इलेक्शन कमीशन ने डिस्ट्रिक्ट पंचायत ऑफीसर करनूल के मकतूब के साथ हुकूमत से ये वज़ाहत तलब की थी के क्या मुस्लिम तबक़ा बी सी ई ज़मुरा के तहत चुनाव में हिस्सा लेने का अहल है।

इस वज़ाहत के बाद सरपंच और वार्ड मैंबरस के ओहदों पर अकलियती तबक़ा के अफ़राद तहफ़्फुज़ात के तहत मुक़ाबला करसकते हैं। इसी दौरान आंध्र प्रदेश मुस्लिम रिजर्वेशन फ्रंट के सदर मुहम्मद इफ़्तेख़ार उद्दीन अहमद ने प्रिंसिपल सेक्रेटरी पंचायत राज और रियास्ती इलेक्शन कमिशनर से नुमाइंदगी करते हुए बी सी ई ज़मुरा के तहत शामिल किए गए 14 मुस्लिम ग्रुपस को पंचायत राज इदारों के चुनाव में तहफ़्फुज़ात के बारे में वज़ाहत की दरख़ास्त की थी।

TOPPOPULARRECENT