Tuesday , November 21 2017
Home / Assam / West Bengal / मुसलमानों ने “ममता” को वोट देकर उनके एहसान का बदला एहसान से दिया है: एड्वोकेट नाज़िया इलाही खान

मुसलमानों ने “ममता” को वोट देकर उनके एहसान का बदला एहसान से दिया है: एड्वोकेट नाज़िया इलाही खान

कोलकाता: माँ माटी मानुष की शानदार जीत पर एडवोकेट नाज़िया इलाही खान ने पश्चिम बंगाल की जनता और मुसलमानों को बधाई देते हुए कहा कि जनता ने अपने निर्णय से सभी राजनीतिक मोका परस्तों  को  उनकी औकात याद दिला दी है और श्रीमती ममता बनर्जी को एक एसा शानदार जनादेश दिया है जिससे पश्चिम बंगाल को विकास की राह पर सरपट दौड़ा सकते हैं .
Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये
फॉर्म फॉर RTI अधिनियम के प्रमुख ने पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में 294 में से 212 सीटों पर तृणमूल कांग्रेस की शानदार जीत को धर्मनिरपेक्षता ‘लोकतंत्र’ विकास ‘ममता बनर्जी की जनता के प्रति दोस्ती ‘ और मुसलमानों की जीत करार दिया है और कहा है कि माकपा और कांग्रेस के नापाक गठबंधन को जनता ने अपने निर्णय से पारा पारा कर दिया है और यह साबित कर दिया है कि अवसरवाद के तहत कुछ सीटों और सत्ता की वासना में विचारों से समझौता करने वालों को पश्चिम बंगाल की जनता कभी चयन नहीं कर सकते हैं.

चुनावी परिणाम की घोषणा के बाद यहां जारी अपने बयान में सुश्री खान ने कहा कि तृणमूल कांग्रेस ठीक ही ऐसी ही जीत की हकदार थी पिछले 5 वर्षों में उसने वह काम किया है जो भारत के किसी भी राज्य में नहीं हुए थे। केवल मुसलमानों और अल्पसंख्यकों के विकास के संबंध में ममता बनर्जी के कदम ने उन्हें मुसलमानों के वोट के हकदार बना दिया था और मुसलमानों ने उन्हें वोट देकर उनके एहसान का जवाब एहसान से दिया है। हालांकि कुछ मौका परस्तों  ने नापाक राजनीतिक गठबंधन का सहारा ले कर मुसलमानों को गुमराह करने की कोशिश की थी, लेकिन पश्चिम बंगाल के मुसलमानों की राजनीतिक वयस्क ऑप्टिकल ने उन सब को खारिज कर काम करने वालों को चुना है .

एडवोकेट नाज़िया इलाही खान ने कहा कि बंगाल की राजनीति से परिचित लोगों के लिए यह अनुमान लगाना तो मुश्किल नहीं था कि कल 294 सीटों पर अकेले लड़ने वाली ममता बनर्जी को कम से कम इस बार वाम मोर्चे और कांग्रेस के लिए मिलकर हराना संभव नहीं होगा, लेकिन कोई कोई यह नहीं सोच पाया था कि ममता को 2011 के 184 के मुकाबले इस 2016 में 212 सीटें मिल जाएगी। इससे यह भी पता चला है कि पश्चिम बंगाल के कम्युनिस्टों की गलतियों को पांच साल बाद भी भुला नहीं पाए हैं।

इस गठबंधन को न केवल मौलिक खारिज किया है बल्कि वाम मोर्चा को 27 सीटों पर समेट दिया है जबकि कांग्रेस के सपने को 42 सीटों की सख्त पत्थर से चकनाचूर कर दिया। यह दोनों दलों के अपने पापों की सज़ा है जो उन्होंने जनता के साथ किया था. ऐडवकेट नाज़िया इलाही खान ने ममता बनर्जी और तृणमूल कांग्रेस के सभी 212 नवनिर्वाचित विधायकों को बधाई देते हुए उम्मीद जताई है कि वह बंगाल की जनता और मुसलमानों के पक्ष में निर्माण और विकास के काम को बिना किसी बाधा के जारी रखेंगे।

TOPPOPULARRECENT