Monday , December 18 2017

मुसलमान इत्तिहाद का सुबूत दें : हाशमी

मुसलमान मजहब व मिल्लत और अपने आप के तहफ़्फुज़ के लिए ईमानदारी के साथ इत्तिहाद का सुबूत दें क्योंकि हर दौर में मुसलमानों को मुश्किल मरहले से गुजरना पड़ा है। तारीख गवाह है की मुश्किल से मुश्किल वक़्त में अल्लाह के रसूल के सच्चे शयदायों

मुसलमान मजहब व मिल्लत और अपने आप के तहफ़्फुज़ के लिए ईमानदारी के साथ इत्तिहाद का सुबूत दें क्योंकि हर दौर में मुसलमानों को मुश्किल मरहले से गुजरना पड़ा है। तारीख गवाह है की मुश्किल से मुश्किल वक़्त में अल्लाह के रसूल के सच्चे शयदायों ने कभी भी नाम व नमूद के लिए ईमान व अकीदे का सौदा नहीं किया।पटना सिटि के गाय घाट में मुनक्कीद तहरीक इंसाफ कोनसिल के प्रोग्राम से खिताब करते हुये क़ौमी सेक्रेटरी शकील अहमद हाशमी ने ये बातें कहीं।

उन्होने कहा की मुल्क में हमारी नाकामी के सबसे बड़ी वजह आपसी इंतिहसार और मुसलमानों के अंदर आम लोगों का खौफ है जिसके जिम्मेदार हम खुद हैं । बिहार के मौजूदा सियासी हालात के मद ए नज़र उन्होने कहा की मुसलमान अब भी होश में आ जाओ वरना वो दिन दूर नहीं के एसेम्बली में हमारी आवाज बुलंद करने वाला कोई क़ौम का लीडर नहीं होगा। इंतिख़ाब से कबल वजीरे आला के ओहदे के लिए नामों के ऐलान से इस बात को समझना होगा। आज मुसलमानों में खौफ पैदा करके सिर्फ वोट हासिल किया जाता है इसलिए इस बार मुसलमानों को ये तय करना होगा की हम सब मिल कर बिहार के बेहतर मुस्तकबिल के लिए अपने वोट का सही इस्तेमाल करें। इस मौके पर तहरीक की जानिब से तीन वार्डों में सदर मुंतखिब किए गए। जिसमें मोहम्मद अशफाक़ आलम, धीरज कुमार शामिल हैं। इस मौके पर मोहम्मद शमशाद आलम, सफरराज अब्दुल्लाह, रिजवी , वसीम अख्तर मेराज वगैरह मौजूद थे।

TOPPOPULARRECENT