Thursday , December 14 2017

मुस्तक़बिल में ग़िज़ा की क़िल्लत गंभीर साईंसदानों की तवज्जु ज़रूरी

राजकोट । 26 दिसम्बर : ग़िज़ाई अजनास की तैय्यारी के लिए ज़्यादा से ज़्यादा इख़तिराई रिसर्च काम अंजाम देने की ज़रूरत पर ज़ोर देते हुए सीनीयर माहिर साईंस ने आज कहा कि मुस्तक़बिल में हिंदूस्तान के अंदर ग़िज़ा की क़िल्लत बहुत बड़ी तशवीश की बात ह

राजकोट । 26 दिसम्बर : ग़िज़ाई अजनास की तैय्यारी के लिए ज़्यादा से ज़्यादा इख़तिराई रिसर्च काम अंजाम देने की ज़रूरत पर ज़ोर देते हुए सीनीयर माहिर साईंस ने आज कहा कि मुस्तक़बिल में हिंदूस्तान के अंदर ग़िज़ा की क़िल्लत बहुत बड़ी तशवीश की बात होगी।

मुल्क की आबादी में बेतहाशा इज़ाफ़ा और पैदावार में कमी का रुजहान फ़िक्रमंदी का बाइस है। आगरा यूनीवर्सिटी शोबा कीमिया-ए-के सरबराह डाँक्टर बी सी सक्सेना ने यहां साईंसदानों की कान्फ़्रैंस से ख़िताब करते हुए कहा कि साईंसदानों को अब उन मसाइल पर काम करना होगा और ये पता चलाना होगा कि आख़िर इस आलमी हिद्दत पर क़ाबू पाने के लिए क्या काम अंजाम दिए जाएं और फ़ी हेक्टर ज़्यादा से ज़्यादा फसल पैदा करने के लिए कई कदम पर ध्यान दिया जाए।

TOPPOPULARRECENT