Thursday , December 14 2017

मुस्लमानों के लिए लम्हा फ़िक्र

क़दीम एक ख़ाना मस्जिद करकल पहाड़ ग़ैर आबाद क़दीम एक ख़ाना मस्जिद कर कल पहाड़ , सिरी सैलम रोड ताल्लुक़ा कलवा कुरती चारमीनार से 54 कीलोमीटर मेन रोड से साफ़ नज़र आती है लेकिन एक शख़्स का कहना है मेरी ज़मीन में मस्जिद है । नमाज़ पढ़ने क

क़दीम एक ख़ाना मस्जिद करकल पहाड़ ग़ैर आबाद क़दीम एक ख़ाना मस्जिद कर कल पहाड़ , सिरी सैलम रोड ताल्लुक़ा कलवा कुरती चारमीनार से 54 कीलोमीटर मेन रोड से साफ़ नज़र आती है लेकिन एक शख़्स का कहना है मेरी ज़मीन में मस्जिद है । नमाज़ पढ़ने की मैं इजाज़त नहीं दे सकता । इस गावं में 10 घर मुस्लमानों के हैं । मस्जिद की शदीद ज़रूरत है यहां के मुस्लमान 8 किलोमीटर आमंगल जाकर नमाज़ अदा करते हैं । इस मस्जिद को भी झाड़ीयों में छोपाने की नाकाम कोशिश की जाती है ।।

TOPPOPULARRECENT