Monday , December 18 2017

मुस्लमानों को इत्तिहाद-ओ-इत्तिफ़ाक़ की तलक़ीन

हैदराबाद ।२२। अगस्त : ( रास्त ) : ईद का मुक़द्दस-ओ-मुकर्रम दिन जो अपने अंदरसिला रहमी अल्लाह और रसूल अल्लाह ई की फ़र्मांबरदारी का जज़बा रखते हुए अल्लाह के शुक्र गुज़ार बने रहते हैं कि अल्लाह तबारक-ओ-ताली ने इताअत की तौफ़ीक़ बख़शी जैसा

हैदराबाद ।२२। अगस्त : ( रास्त ) : ईद का मुक़द्दस-ओ-मुकर्रम दिन जो अपने अंदरसिला रहमी अल्लाह और रसूल अल्लाह ई की फ़र्मांबरदारी का जज़बा रखते हुए अल्लाह के शुक्र गुज़ार बने रहते हैं कि अल्लाह तबारक-ओ-ताली ने इताअत की तौफ़ीक़ बख़शी जैसा कि क़ुरआन मजीद ने इन अलफ़ाज़ में हम को ईद मनाने की तालीम दी है ।

इन ख़्यालात का इज़हार हाफ़िज़ मुहम्मद साबिर पाशाह कादरी ख़तीब-ओ-इमाम मस्जिद हज हाइज़ नेनमाज़ ईद अलफ़तर से क़बल मस्जिद हज हाइज़ नामपली मैं मुनाक़िदा इजतिमा से किया ।

उन्हों ने कहा कि ईद तक़ाज़ा करती है कि बंदा ख़ुदा का होने की कोशिश करे और जिस तरह आज के इस मुबारक दिन हम सब छोटे बड़े , ग़रीब मालदार सब जमा हो कर यहां बैठे हैं । ऐसे ही अपनी ज़िंदगीयों मैं इत्तिहाद-ओ-इत्तिफ़ाक़ पैदा कर लीं । ईद सारी मिल्लत-ए-इस्लामीया को इत्तिहाद का पैग़ाम देती है ।।

TOPPOPULARRECENT