Friday , August 17 2018

मुस्लमानों में फ़रोग़ तालीम केलिए मंसूबा बंदी

तानडोर२४ दिसम्बर:( सियासत डिस्ट्रिक्ट न्यूज़ ) इस्लामी इक़दार पर मबनी असरी उलूम के इदारा के क़ियाम के मौक़ा पर अलमास एजूकेशनल ऐंड चैरीटेबल ट्रस्ट की जानिब से बड़े पैमाने पर तारुफ़ी इजलास मुनाक़िद किया गया। नैशनल गार्डन वाक़्य हैदराबाद

तानडोर२४ दिसम्बर:( सियासत डिस्ट्रिक्ट न्यूज़ ) इस्लामी इक़दार पर मबनी असरी उलूम के इदारा के क़ियाम के मौक़ा पर अलमास एजूकेशनल ऐंड चैरीटेबल ट्रस्ट की जानिब से बड़े पैमाने पर तारुफ़ी इजलास मुनाक़िद किया गया। नैशनल गार्डन वाक़्य हैदराबाद रोड तानडोर पर मुनाक़िदा मज़कूरा इजलास आम में मौलाना अबदुल्लाह हसनी नदवी शेख़ उल हदीस दार-उल-उलूम नदवातुल् उल्माने मेहमान ख़ुसूसी की हैसियत से शिरकत की। मौलाना ख़ालिद बेग नदवी ने अपने ख़िताब में दूर जदीद में निज़ाम तालीम पर तफ़सीली रोशनी डालते हुए इस्लामी निज़ाम तालीम की एहमीयत-ओ-इफ़ादीयत से वाक़िफ़ करवाया और कहा कि हमें तरक़्क़ी केलिए अपने माज़ी की तरफ़ लौटना होगा, अपने इस्लाफ़ जिन्हों ने दुनिया को हर एतबार से तरक़्क़ी की राह पर गामज़न क्या हमें भी अपनी नसल को इस्लामी इक़दार और इस्लामी निज़ाम तालीम के साथ नशो नुमाई देनी होगी। मौसूफ़ ने अलमास एजूकेशनल ऐंड चीरीटबल ट्रस्ट के एज़ाज़ी सरपरस्त आला मौलाना अब्दुह लकवे नाज़िम इदारा अशर्फ़ उल-उलूम हैदराबाद, तानडोर के नौजवान आलम दीन मोतमिद मज़कूरा इदारा मौलाना अबदुल्लाह अज़हर को मुबारकबाद दी कि बैन-उल-अक़वामी मयार के तर्ज़ पर इस्लामी निज़ाम तालीम के असरी उलूम की फ़राहमी केलिए इदारा क़ायम किया जा रहा है जिस का आइन्दा तालीमी साल से आग़ाज़ होगा।

इस मौक़ा पर मुहम्मद निसार अहमद एडीशनल पुलिस कमिशनर बैंगलौर ने एज़ाज़ी मेहमान के तौर पर शिरकत करते हुए अपने ख़िताब में मुस्लमानों की तालीमी हालत पर रोशनी डाली और मुस्लमानों में तालीम को फ़रोग़ देने से मुताल्लिक़ अपने लायेहा-ए-अमल से वाक़िफ़ करवाया। मज़कूरा लायेहा-ए-अमल में मौसूफ़ ने बताया कि मुहल्ला की सतह पर मस्जिद को मर्कज़ बनाते हुए मुहल्ला का मुकम्मल सर्वे करवाया जाये। मज़कूरा सर्वे से मुस्लमानों के मुकम्मल हालात का पता चलेगा और प्रोग्राम को तर्तीब देने में सहूलत होगी। मज़कूरा इजलास का आग़ाज़ तिलावत कलाम पाक से हुआ। निज़ामत के फ़राइज़ मौलाना अबदुल्लाह अज़हर क़ासिमी ने अंजाम दिए और मेहमान ख़ुसूसी की दा-ए-पर इजतिमा इख़तताम को पहुंचा। इस मौक़ा पर ताहिर क़ुरैशी, मुहम्मद ख़ुरशीद हुसैन, सय्यद कमाल अतहर, मुहम्मद अबदालाहद, सिराज समदानी, मुहम्मद अबदुलमजीद, बहा-ए-उद्दीन-ओ-दीगर मोअज़्ज़िज़ीन की कसीर तादाद मौजूद थी

TOPPOPULARRECENT