Tuesday , August 14 2018

मुस्लिम और दलित(पिछडा वर्ग‌) आदीवासियों के ख़िलाफ़ मुआनिदाना रवैय्या(आचरण‌) की मुज़म्मत

हैदराबाद१६अक्टूबर (सियासत न्यूज़) मुल्क में मुस्लमानों और दलित (पिछडा वर्ग‌) आदीवासियों के ख़िलाफ़ जारी मुआनिदाना रवैय्या(आचरण‌) की सैकूलर तंज़ीमों ने सख़्त मुज़म्मत की है और कहा कि मुल्क में हुक़ूक़-ओ-मुसावात की बात करने वालों

हैदराबाद१६अक्टूबर (सियासत न्यूज़) मुल्क में मुस्लमानों और दलित (पिछडा वर्ग‌) आदीवासियों के ख़िलाफ़ जारी मुआनिदाना रवैय्या(आचरण‌) की सैकूलर तंज़ीमों ने सख़्त मुज़म्मत की है और कहा कि मुल्क में हुक़ूक़-ओ-मुसावात की बात करने वालों और इंसाफ़ (न्याय) के लिए जद्द-ओ-जहद करने वालों को दाढ़ी के नाम पर दहश्तगर्द और नकसलाईट बना दिया जा रहा है।

तक़रीबन (लगभग‌)15 से ज़ाइद मुस्लिम, दलित और आदीवासी तंज़ीमों के क़ाइदीन आज यहां सोमाजी गुड़ा प्रैस कलब पर जमा हो गए थी। क़ाइदीन ने तलंगाना काज़ को नुक़्सान पहूँचाने वाली ताक़तों पर अपनी सख़्त ब्रहमी का इज़हार किया और बतौर-ए-एहतजाज सोमाजी गुड़ा सड़क पर रुकन असैंबली सिंगा रेड्डी जगह रेड्डी का अलामती पुतला नज़र-ए-आतिश(तबाह कर देना) किया। इस मौक़ा पर कई दूर तक ट्रैफ़िक जाम हो गई।

क़ाइदीन जो रियास्ती हुकूमत के रवैय्या और जगह रेड्डी की ज़बान दराज़ी पर ब्रहम थी। फ़ौरी तौर पर असम्बली की रुकनीयत से जगह रेड्डी को बर्ख़ास्त करदेने और उन के ख़िलाफ़ एससी एसटी ऐक्ट के तहत मुक़द्दमा चलाने का मुतालिबा किया। सैकूलर क़ाइदीन ने मुल्क में मुस्लिम नौजवानों की गिरफ़्तारीयों और तीन नाजायज़ तौर पर मुक़द्दमात में माख़ूज़ करने की सख़्त मुज़म्मत की और कहा कि किसी भी मुस्लिम नौजवान को ग़ैर ज़रूरी परेशान करना या उन्हें किसी मुक़द्दमात में नाजायज़ तौर पर माख़ूज़ करने को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

सैकूलर तंज़ीमों ने एक प्रैस कान्फ़्रैंस को मुख़ातब करते हुए इन ख़्यालात का इज़हार(प्रकट करना) किया, जिस का एहतिमाम(बंदोबस्त‌ ) हैदराबाद सियोल सोसाइटी की जानिब से मनीजिंग ऐडीटर रोज़नामा सियासत जनाब ज़हीरउद्दीन अली ख़ां की निगरानी में किया गया था। सैकूलर तंज़ीमें, माइनारीटी फ़ोर्म तलंगाना वीलफेय‌र कौंसल, रुकन वक़्फ़ परोटकशन सोसाइटी, माला सनघशमया संगम, एससी एसटी, बी सी माइनारीटी मोरचा हेल्प् हैदराबाद, और बी सी, अलसी, ए पी ए , वाई एसए पी ज्यॉक़, एससी , एसटी, राष़्ट्रा माला संगम, सूफ़ी एकेडेमी, अंबेडकर नैशनल कांग्रेस, माइनारीटी स्टूडैंट फ़ोर्म, अवयव ज्यॉक़ (तलंगाना राष़्ट्रा) लंबा डी तलंगाना प्रजा फ्रंट, तलंगाना स्टूडैंट जे ए सी ऐस डब्लयू डी के इलावा दीगर तनतीमों के क़ाइदीन मौजूद थी।

इस मौक़ा पर डाक्टर हुस्न उद्दीन अली अहमद रिटायर्ड (आई ए ऐस) ने मुस्लिम नौजवानों की गिरफ़्तारीयों पर अफ़सोस का इज़हार किया और कहा कि मुल्क में चंद ताक़तें बेचैनी के माहौल को पैदा कररही हैं। मिस्टर मैनेजर कादरी सदर हेल्प् हैदराबाद ने कहा कि हिंदूस्तान भर में मुस्लिम क़ौम के साथ जारी इमतियाज़ी सुलूक में इज़ाफ़ा होगया है और बेबुनियाद इत्तिलाआत पर पुलिस मुस्लिम नौजवानों को नाजायज़ मुक़द्दमात में भी फांस कर उन की ज़िंदगीयों को तबाह कररही ही। उन्हों ने सच्चर कमेटी का हवाला देते हुए कहा कि सच्चर कमेटी में ये बात वाज़िह करदी गई है कि मुस्लिम समाज नाइंसाफ़ीयों का शिकार हुआ ही।

उन्हों ने कहा कि मुस्लिम नौजवानों के लिए जो नाजायज़ मुक़द्दमात में माख़ूज़ कर दिए गए उन के मुक़द्दमात की यकसूई केलिए अलहदा ख़ुसूसी कमीशन का क़ियाम अमल में लाया जाए। उन्हों ने अबदूर्रज़्ज़ाक़ मसऊद की ख़ुदकुशी को पुलिस हुर्रा सानी की एक ज़िंदा मिसाल क़रार दिया और कहा कि हुकूमतों के मुबय्यना इशारों पर पुलिस आला तालीम-ए-याफ़ता मुस्लिम नौजवानों को निशाना बना रही ही। इस मौक़ा पर डाक्टर वनए कुमार सोशल अमपोरमनट आर्गेनाईज़ेशन ने कहा कि समाज के किसी भी तबक़ा(वर्ग‌) के साथ इमतियाज़-ओ-नाइंसाफ़ी को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

उन्हों ने मुस्लिम नौजवानों की गिरफ़्तारीयों पर ब्रहमी का इज़हार किया और तलंगाना काज़ को नुक़्सान पहूँचाने वाली ताक़तों को सख़्त गीर नताइज का इंतिबाह दिया। मिस्टर बलिया नायक ने जगह रेड्डी को सख़्त तन्क़ीद का निशाना बनाते हुए कहा कि तलंगाना तहरीक को ख़तन करने की साज़िश के तहत इस तरह के ब्यानात-ओ-इक़दामात किए जा रहे हैं। उन्हों ने कहा कि अब जबकि मुस्लिम समाज भी तलंगाना तहरीक में बढ़ चढ़ कर हिस्सा ले रहा है और जिस की ज़िंदा मिसाल हालिया तलंगाना मार्च है।

ऐसे वक़्त मुस्लमानों को तलंगाना तहरीक से दूर करने और उन में अदम तहफ़्फ़ुज़ का रुजहान पैदा करने की साज़िश करते हुए मुस्लिम नौजवानों को नाजायज़ मुक़द्दमात में माख़ूज़ किया जा रहा ही, लेकिन अब ऐसी हरकतों और इक़दामात को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। इस मौक़ा पर उसमान अलहाजरी रुकन वक़्फ़ प्रोटेक्शन सोसाइटी ने कहाकि समाज के तमाम ऐसे तबक़ात को जिन के साथ नाइंसाफ़ीयां हुई हैं और नाइंसाफ़ीयां जारी हैं इस के ख़िलाफ़ आवाज़ बुलंद की जाएगी और एक मोरचा तैय्यार करते हुए ऐसी साज़िशों का मुंहतोड़ जवाब दिया जाएगा।

उन्हों ने कहा कि समाज में अभी बहुत से हेमंत करकरे जैसे ओहदेदार पाए जाते हैं। उन्हों ने फ़िकऱ्ापरस्त ताक़तों को अपने समाज में फूट डालने वाली पालिसीयों से बाज़ रहने का मश्वरा दिया। इस मौक़ा पर माइनारीटी स्टूडैंट आर्गेनाईज़ेशन के जनरल सैक्रेटरी सय्यद सलीम पाशाह ने कहा कि मुस्लमानों को वोट बंक की तरह इस्तिमाल करने की हर वो कोशिश को नाकाम बनादिया जाएगा। उन्हों ने सिंगा रेड्डी रुकन असम्बली जगह रेड्डी के रवैय्या पर सख़्त तन्क़ीद(परख‌) की और उन्हें मश्वरा दिया कि अगर वो तलंगाना में रहना चाहते हैं तो तलंगाना क़ाइदीन की इज़्ज़त करना सीखें।

इस मौक़ा पर अंबेडकर नैशनल कांग्रेस के सदर नवाब काज़िम अली ख़ां ने सैकूलर तंज़ीमों की इस तहरीक (आन्दोलन‌)को अपनी भरपूर ताईद का ऐलान किया और कहा कि अंबेडकर की जानिब से तैय्यार करदा दस्तूर में तमाम शहरीयों केलिए एक ही जैसे हुक़ूक़ हासिल हैं लेकिन चंद ताक़तें मुस्लिम और दलित को उन के हुक़ूक़ से दूर कर दिया। उन्हों ने सैकूलर तंज़ीमों की जानिब से हुक़ूक़ और तलंगाना के लिए जारी हर कोशिश पर साथ देने का वाअदा किया।

इस प्रैस कान्फ़्रैंस को एन रामलो एससी, एसटी, बी सी माइनारीटी मोरचा, ईल बाला धर्म, मालामहाना , नर्सिंग राॶ कन्वीनर एससी, एसटी, माइनारीटी मोरचा के इलावा दीगर ने भी मुख़ातब (संबोधित‌)किया। इस मौक़ा पर मुजाहिद हाश्मी, तारिक़ कादरी सूफ़ी एकेडेमी, सिंह-ए-अल्लाह तलंगाना प्रजा फ्रंट, हयात हुसैन हबीब, साजिद ख़ां, नासिर सुलतान तलंगाना वीलफ़ीर कौंसल-ओ-दीगर मौजूद थी।

TOPPOPULARRECENT