Tuesday , September 25 2018

मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के मैकुफ को वाईएसआर कांग्रेस का समर्थन

हैदराबाद 10 नवंबर: तलाक सलासा और समान सिविल कोड मसले पर वाईएसआर कांग्रेस पार्टी को ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के मैकुफ के साथ रहना चाहिए क्योंकि मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने जो मैकुफ अपनाया है इससे केंद्र सरकार और विधि आयोग ऑफ इंडिया को भारतीयों की भावनाओं-ओ-एहसासात से परिचित करवाया जा सकेगा।

आमिर अली ख़ान न्यूज़ ऐडीटर सियासत ने आंध्र प्रदेश के वाईएसआर सीपी नेताओं कार्यालय राजनीति पर मुलाकात के दौरान यह बात कही.हफीज खान रुकने असैंबली की क़ियादत में एक प्रतिनिधिमंडल ने सदर वाईएसआर सीपी जगन मोहन रेड्डी के निर्देश पर आमिर अली खान से मुलाकात के लिए आया था।

प्रतिनिधिमंडल के सदस्यों ने बताया कि उन्होंने तलाक सलासा और समान सिविल कोड मामला सदर वाईएसआर सीपी से मुलाकात करते हुए पार्टी के मौकुफ़ तर्तीब देने की ख़ाहिश की थी पर जगन मोहन रेड्डी ने उन्हें जिम्मेदार नेताओं को निर्देश दिया कि वह इस सिलसिले में न्यूज़ ऐडीटर सियासत से परामर्श करें और जो कहेंगे वही पार्टी का मौकुफ़ होगा। हफीज खान ने कहा कि पार्टी सदर के निर्देश के बाद बैठक की जा रही है ताकि इस मुद्दे पर पार्टी के मौकुफ़ को पेश किया जा सके।

आमिर अली खान ने प्रतिनिधिमंडल के सदस्यों को कहा कि वह अपनी पार्टी को इस बात के लिए राजी करवाएं कि वाईएसआर सीपी ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के मैकुफ का समर्थन करते हुए संविधान के बुनियादी ढांचे में किसी प्रकार के संशोधन नहीं चाहती बल्कि इस देश में रहने वाले सभी नागरिकों को हासिल मज़हबी आज़ादी के हक़ में है।

न्यूज़ एडीटर सियासत ने बताया कि देश में इस तरह के प्रयास पहली बार नहीं हो रहा है बल्कि पूर्व में भी होने वाली इन कोशिशों को धर्मनिरपेक्ष ताकतों ने संयुक्त रूप से नाकाम बनाते हुए स्वतंत्रता विश्वास और धर्म का तहफ़्फ़ुज़ किया।

उन्होंने बताया कि तलाक सलासा और ताद्दद-ए-अज़वाज के मामले में सरकार ने जो मौकुफ़ अपनाया है इसे स्वीकार किए जाने का सवाल ही पैदा नहीं होता जबकि समान सिविल कोड समस्या केवल मुसलमानों का नहीं बल्कि देश की आधी से अधिक आबादी की समस्या है और कोई धर्म या तहज़ीब के मानने वाले समान सिविल कोड को स्वीकार नहीं कर सकते।

TOPPOPULARRECENT