मुस्लिम बहुल इलाकों में बीजेपी प्रत्याशी पर इस बार मुसलमानों ने खूब लुटाए वोट !

मुस्लिम बहुल इलाकों में बीजेपी प्रत्याशी पर इस बार मुसलमानों ने खूब लुटाए वोट !
सांकेतिक तस्वीर

लोकसभा चुनाव में इस बार मुस्लिम बहुल इलाकों में बीजेपी को इफरात में वोट मिले। मुस्लिम बहुल तीन विधासभाएं तो ऐसी हैं जहां इस बार बीजेपी ने जीत का परचम लहराया है। मुस्लिम बहुल इलाकों में बीजेपी प्रत्याशी को लेकर इस बार मुसलमानों ने दरियादिली दिखाई है। उन्हें पिछले बार के लोकसभा चुनावों से इस बार अधिक वोट मिले हैं। सवाल उठ रहा है कि क्या तीन-तलाक के मसले पर मुस्लिम महिलाओं ने बीजेपी को भी अपना वोट शेयर किया है।

राजधानी की तीन लोकसभा क्षेत्रों की करीब दस विधानसभा सीटें ऐसी हैं, जहां मुस्लिम वोटरों की संख्या बाकी वोटरों से अधिक हैं। इनमें चांदनी चौक लोकसभा से बल्लीमारान, चांदनी चौक, मटिया महल, सदर बाजार, ईस्ट दिल्ली से ओखला व गांधी नगर तो नॉर्थ ईस्ट दिल्ली लोकसभा सीट की बाबरपुर, सीलमपुर, मुस्तफाबाद व सीमापुरी ऐसी विधानसभाएं हैं जहां मुस्लिम वोटर भारी तादात में हैं। अगर मोटे तौर पर बात करें तो इन विधानसभाओं में से तीन विधानसभाएं मुस्तफाबाद, सीमापुरी व गांधी नगर ऐसी हैं जहां इस बार बीजेपी वोटों के मामले में नंबर वन रही है, बाकी सात सीटों पर कांग्रेस पहले नंबर पर रही है। खास बात यह है कि इन सभी 10 विधानसभा सीटों पर आम आदमी पार्टी के प्रत्याशी तीसरे नंबर पर आए हैं।

विशेष बात यह भी है कि इन मुस्लिम बहुल सीटों पर इस बार बीजेपी को पिछले लोकसभा चुनाव से ज्यादा वोट मिले हैं। यानि इन सभी सीटों पर उसका वोट प्रतिशत बढ़ गया है। उदाहरण के तौर पर चांदनी चौक लोकसभा की बल्लीमारान विधानसभा सीट पर पिछले लोकसभा चुनाव में बीजेपी को 29624 वोट मिले थे, जबकि इस बार उसके वोट 33523 हो गए हैं। इसी तरह मटिया महल की बात करें तो पिछले लोकसभा चुनाव में बीजेपी को 15453 वोट मिले थे, जबकि इस लोकसभा चुनाव में उनकी संख्या बढ़कर 20224 हो गई है। इसी तरह चांदनी चौक विधानसभा सीट पर पिछले लोकसभा चुनाव में बीजेपी को 26228 वोट मिले थे, जो इस बार बढ़कर 28754 हो गए हैं।

हैरानी की बात यह है कि ईस्ट दिल्ली की लोकसभा सीट की ओखला विधानसभा में बीजेपी को बंपर वोट मिले हैं। इस सीट पर वैसे तो कांग्रेस नंबर वन हैं और उसके प्रत्याशी को 60858 वोट पड़े हैं, लेकिन बीजेपी यहां हैरतअंगेज रूप से इस बार 55170 वोट मिले हैं, जबकि पिछले लोकसभा चुनाव में बीजेपी प्रत्याशी को 39914 वोट मिली थीं। नॉर्थ ईस्ट की मुस्तफाबाद विधानसभा की बात करें तो यहां पर बीजेपी प्रत्याशी नंबर वन रहे हैं। उन्हें इस सीट पर 73501 वोट पड़े हैं, जबकि कांग्रेस प्रत्याशी को 69803 वोट मिले हैं। आप को इस सीट पर मात्र 17803 वोट मिले हैं, जबकि पिछले लोकसभा चुनाव में उसे 52 हजार से अधिक वोट मिले थे। बीजेपी प्रत्याशी को पिछले लोकसभा चुनाव में यहां से 56 हजार से अधिक वोट मिले थे। माना जा रहा है कि इन इलाकों में मुस्लमान वोटरों ने इस बार बीजेपी पर अपनी दरियादिली दिखाई है और तीन तलाक के मसले पर शायद मुस्लिम महिलाओं का भी झुकाव बीजेपी की ओर गया है।

Top Stories