Wednesday , November 22 2017
Home / International / “मुहम्मद अली” के हाथ पर 20 लाख अमरीकियों ने क़ुबूल किया था इस्लाम

“मुहम्मद अली” के हाथ पर 20 लाख अमरीकियों ने क़ुबूल किया था इस्लाम

दुबई: मुक्केबाजी की दुनिया के पूर्व लीजेंड मोहम्मद अली कुले ने कई बार इस बात का इज़हार किया था कि उनके जीवन के सबसे खुशगवार क्षण वे थे जब उन्होंने इस्लाम कबूल किया और ईमान की हलावत को चखा। उनका ईमानी लज़्ज़त तक पहुंचने की यात्रा कैसा रहा?

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

परोपकारी करार दिए जाने वाले मोहम्मद अली का जीवन में यूं तो कई शगुन सामने आए लेकिन जीवन का निर्णायक मोड़ 1964 में आया जब वह प्रसिद्धि की ऊंचाई पर थे और उसी साल उन्होंने पहली बार विश्व चैंपियन होने का गौरव प्राप्त किया और साथ ही इस्लाम स्वीकार करने की घोषणा भी कर डाली। मीडिया का कहना था कि मोहम्मद अली शाह के सिंहासन से उतर कर इस्लाम की दावत के सेवक बन गए। उनके दोनों पंजे गरीबों और नाज्दारों पर सहानुभूति के फूल बरसाने वाले प्यार भरे हाथों में तब्दील हो गए।

इस तरह “कैसियस मारसीलस क्ले” अपने अतीत को अलविदा कहकर “मोहम्मद अली कले” के नाम से जीवन के नए चरण की शुरुआत की। एक ऐसा मुसलमान अपने धर्म के रास्ते में हर संभव प्रयास और धन खर्च करने के लिए तैयार था।

उनके इस्लाम स्वीकार करने के संबंध मोहम्मद तमाशी अपनी किताब “अज़ीम शख्सियात और मुफक्क्रीन का कुबूले इस्लाम” में मोहम्मद अली की ज़ुबानी लिखते हैं कि “1964 में राज्य फ्लोरिडा में पहली बार मैंने यह सुना कि अल्लाह एक है जो सुनते ही में हिल गया और कहा कि मोहम्मद पैगंबर (स अ) अंतिम नबी हैं यीशु अल्लाह के नबियों में से एक हैं। कुरान वही का पूरा संग्रह है जिसकी खुद रक्षा की गई। यह सब मेरे लिए नया था और उसने मुझ पर जबरदस्त प्रभाव डाला।

इस्लाम लाने के बाद मानव सुरक्षा और वास्तविकता को पाया। मैंने नमाज़,रोज़ा, अल्लाह से संबंध सीखा और फिर मिस्र गया कि लोगों को अल्लाह के दीन हनीफ यानी इस्लाम की तरफ़ दावत दें। अल्लाह की कृपा से मेरे हाथ 20 लाख से अधिक अमेरिकियों ने इस्लाम स्वीकार किया। मैं अपनी वार्षिक आय (जो कि 20 करोड़ डॉलर के करीब (इस्लाम के लिए आवंटित कर दी। मेरी पत्नी और बच्चों का इस भाग में कोई अधिकार नहीं है। मैं अपने महल को एक जामा मस्जिद और कुरान की शिक्षा के केंद्र में तब्दील कर दिया। इसके अलावा मैंने शिकागो में सबसे बड़ी मस्जिद का निर्माण शुरू किया और यह मस्जिद एक इस्लामी केंद्र होगा। इन दिनों में इस्लामी किताबें खरीदकर अमेरिका में मुसलमानों में नि: शुल्क वितरण कर रहा हूँ “।

अलाईजा की भूमिका

अमेरिकी दानिश्वर मैल्कम एक्स की व्यक्ति मोहम्मद अली किले की सोच पर गहरा प्रभाव था और वह उनके  करीबी दोस्त भी थे। इसी तरह “नेशन ऑफ इस्लाम” संगठन के प्रमुख अलाईजा मोहम्मद ने मुक्केबाजी की दुनिया के इस नायक के जीवन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।मोहम्मद अली ने इस्लाम की बुनियादी शिक्षा अलाईजा से प्राप्त की। वह साठ के दशक में उनके धार्मिक व्याख्यानों में भाग लेते थे।

हालांकि मोहम्मद अली के इस्लाम का आगाज़ नेशन ऑफ़ इस्लाम संगठन के साथ हुआ लेकिन यह अधिक समय जारी न रहा। मोहम्मद अली ने संगठन के कई विचारों से असहमत और साथ ही अपने कल्याण और धार्मिक पर्व के काम को जारी रखा। उन्होंने पश्चिमी दुनिया के मन में बस जाने वाली इस्लाम और मुसलमानों की गलत छवि को ठीक करने के प्रयास जारी रखीं। इस दौरान 1972 में इस लीजेंड ने हज अदा किया।

मोहम्मद अली ने अपने एक इंटरव्यू में कहा था कि “जल्द ही मैं बड़े उम्र का आदमी हो जाऊँगा और किसी भी समय मुझे मौत का सामना हो सकता है। अल्लाह ने मुझे दुनिया के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी और मशहूर तरीन इंसान बनाया तो मैं इस असाधारण लोकप्रियता को जो अल्लाह ने मुझे आशीर्वाद के तौर में दिया है, इस्लाम की शिक्षाओं को हर जगह फैलाने के लिए उपयोग करूँगा और इसी तरह अपराध, शराब, ड्रग्स और वेश्यावृत्ति से लड़ने के लिए इस्तेमाल में लाऊँगा। ”

मोहम्मद अली वैश्विक राजनीतिक हस्तियों से अपनी बैठकों की यादों को ताजा करते हुए बताते हैं कि वह इस बात को कभी नहीं भुला सकेंगे कि सोवियत राष्ट्रपति मिखाइल गोर्बाचोफ ने जब व्हाइट हाउस का दौरा किया तो उन्होंने मोहम्मद अली से मुलाकात की दरख्वास्त की जहां वह खुद उनका स्वागत करने वालों में से थे। जब दोनों हस्तियां मिलें तो मोहम्मद अली ने सोवियत राष्ट्रपति को कुरान करीम का उपहार दिया और उन पर इस्लाम लाने के लिए जोर दिया।

आतंकवाद, उग्रवाद और इस्लामोफोबिया के बढ़ते रुझान के बारे में एक मौके पर मोहम्मद अली का कहना था कि “मैं एक मुसलमान हूँ और इस्लाम में पेरिस या दुनिया के किसी भी स्थान पर निर्दोष लोगों की हत्या की कोई गुंजाइश नहीं। असली मुसलमान जानते हैं कि बर्बर हिंसा हमारे धर्म के सिद्धांतों के विपरीत है “।

विश्व प्रसिद्ध मुक्केबाज मोहम्मद अली क्ले का शुक्रवार की रात अमेरिकी राज्य एरिजोना शहर फीनिक्स के एक अस्पताल में सांस की तकलीफ के कारण निधन हो गया। उन्हें 1984 से पारकसनज़ का रोग भी था। तीन बार विश्व हैवी वेट चैम्पियनशिप जीतने वाले हीरो के परिजनों के अनुसार मोहम्मद अली की त्द्फीन उनके गृह राज्य केंटकी के शहर लुईस विल में होगी जहां क्ले ने 74 साल पहले आंख खोली थी।

TOPPOPULARRECENT