Saturday , May 26 2018

मुहम्मद पहलवान और दीगर की अदालत में ख़ुदसपुर्दगी

चंदरायन गट्टा बारकस हमला केस में माख़ूज़(मुलजिम) जनाब मुहम्मद बिन उमर याफ़ई अल-मारूफ़ मुहम्मद पहलवान ने अपने भाई यूनुस बिन उमर याफ़ई और साथी बहादुर अली ख़ान उर्फ़ मुनव्वर इक़बाल के हमराह आज नामपली क्रीमिनल कोर्ट में ख़ुद को क़ा

चंदरायन गट्टा बारकस हमला केस में माख़ूज़(मुलजिम) जनाब मुहम्मद बिन उमर याफ़ई अल-मारूफ़ मुहम्मद पहलवान ने अपने भाई यूनुस बिन उमर याफ़ई और साथी बहादुर अली ख़ान उर्फ़ मुनव्वर इक़बाल के हमराह आज नामपली क्रीमिनल कोर्ट में ख़ुद को क़ानून के सपुर्द करदिया। मुहम्मद पहलवान आज सुबह 10.30 बजे नामपली कोर्ट पहूंचे और उन के साथ कसीर तादाद में उन के रफ़ीक़ और दीगर अरकान ख़ानदान भी मौजूद थे ।

आंधरा प्रदेश हाइकोर्ट की जानिब से ज़मानत मंसूख़ होने के बाद कल शाम उन्हें तहरीरी अहकामात मौसूल हुए थे । आज उन्हों ने तीसरे ऐडीशनल मेट्रो पोलीटीन सैशन जज के इजलास पर ख़ुदसपुर्दगी इख़तियार की जिस के बाद उन्हें 14 दिन के लिए अदालती तहवील में देदिया गया ।

वाज़ेह रहे कि जस्टिस के सी भानू ने गुज़श्ता हफ़्ता मुहम्मद पहलवान उन के भाई यूनुस बिन उमर याफ़ई और मुनव्वर इक़बाल की ज़मानतें मंसूख़ करते हुए फ़िलफ़ौर मुताल्लिक़ा अदालत में ख़ुदसपुर्दगी इख़तियार करने का हुक्म दिया था।

अदालत में ख़ुदसपुर्दगी के दौरान सी सी ऐस पुलिस उन्हें अपनी तहवील में लेकर फिर एक मर्तबा सैंटर्ल क्राईम स्टेशन लेजाना चाहती थी लेकिन वकील दिफ़ा मिस्टर मुहम्मद मुज़फ़्फ़र उल्लाह ख़ान ऐडवोकेट ने इस की मुख़ालिफ़त की और सी सी ऐस पुलिस के ओहदेदारों को हाइकोर्ट के अहकामात से वाक़िफ़ करवाया जिस में सी सी ऐस पुलिस का ख़ुदसपुर्दगी के लिए कोई ज़िक्र नहीं है।

नामपली क्रीमिनल कोर्ट में मुहम्मद पहलवान की ख़ुदसपुर्दगी की इत्तिला मिलने पर नामपली पुलिस ने अहाता कोर्ट में सिक्योरिटी के वसीअ तर इंतिज़ामात किए थे और मुहम्मद पहलवान के हामीयों को अहाता अदालत में दाख़िल होने से रोकने की कोशिश की गई।

TOPPOPULARRECENT