Tuesday , December 12 2017

मुक़ामी पालिसी की मुतालिबात को लेकर आदिवासी-मूलवासी अदारों का झारखंड बंद आज

रांची : झारखंड में मुकामी पालिसी की मुतालिबात को लेकर मुख्तलिफ आदिवासी अदारों ने 29 दिसंबर को झारखंड बंद बुलाया है़। इसे लेकर आदिवासी मूलवासी जनाधिकार मंच, आदिवासी जन परिषद, कुरमी विकास मोर्चा, मर्क़ज़ी सरना समिति, आदिवासी सरना महासभा समेत मुख्तलिफ अदारों ने पीर की शाम काे जयपाल सिंह मुंडा स्टेडियम से अलबर्ट एक्का चौक तक मशाल जुलूस निकाला़। सीएम रघुवर दास का पुतला फूंका और बंद को कामयाब बनाने का अहद लिया़। इस बंद को झामुमो ने भी हिमायत दिया है़। झामुमो के वोर्किंग कमेटी के सदर हेमंत सोरेन ने पीर को इसकी एलान की।

अलबर्ट एक्का चौक पर इजलास को खिताब करते हुए कन्वेनर राजू महताे ने कहा कि रियासत की आदिवासी मूलवासी अवाम को उनके कानूनी हुकूक से अब महरूम नहीं किया जा सकता़। यहां के आदिवासी- मूलवासी अपने बच्चों को दिकतों का सामना करते हुए पढ़ाते हैं, पर उनके बच्चों को नौकरी नहीं मिलती़। मुकामी पालिसी नहीं होने की वजह से दूसरे रियासत के नौजवान नौकरियां हथिया लेते है़ं। दीगर रियासत में तीसरे और चौथे ज़मरे की नौकरियां मुकामी शहरियों के लिए महफूज़ है़ं। आंध्र प्रदेश में दुसरे ज़मरे की मुलाज़मत भी मुकामी अवाम के लिए रिजर्व है़ं। आदिवासी जन परिषद के सदर प्रेमशाही मुंडा ने कहा कि आदिवासी मूलवासी अवाम अब एक बड़े उलगुलान के लिए तैयार है़। कुरमी विकास मोर्चा के सदर शीतल आेहदार ने कहा कि रियासत का तशकील लंबे ज़द्दो-ज़हद के बाद हुआ है,जिसमें यहां के लोगों की खुशहाली का ख्वाब था़। झारखंड के शहीदों की कुर्बानियां बेकार नहीं जाने देंगे़। इस मौके पर ओम प्रकाश महतो, अनीता गाड़ी, रामपदो महतो, रवि पीटर, आजम अहमद समेत दीगर मौजूद थे़।

 

TOPPOPULARRECENT