Monday , December 18 2017

मुज़फ़्फ़रनगर राहत रसानी कैम्पों में वबाएं फूट पड़ने का अंदेशा

इमकान है की राहत रसानी कैंम्प जहां फ़सादात‌ के सैंकड़ों मुतास्सिरीन मुक़ीम हैं जबकि गुज़शिता माह मुज़फ़्फ़रनगर में फ़िर्कावाराना फ़साद फूट पड़ा था, वबाएं फैल जाने का इमकान है। इलाक़े का सर्वे करने के बाद रीज़ीडनट डॉक्टर्स एसोसिएशन की 10 र

इमकान है की राहत रसानी कैंम्प जहां फ़सादात‌ के सैंकड़ों मुतास्सिरीन मुक़ीम हैं जबकि गुज़शिता माह मुज़फ़्फ़रनगर में फ़िर्कावाराना फ़साद फूट पड़ा था, वबाएं फैल जाने का इमकान है। इलाक़े का सर्वे करने के बाद रीज़ीडनट डॉक्टर्स एसोसिएशन की 10 रुकनी टीम ने जिसका ताल्लुक़ जवाहर लाल नहरू मैडीकल कॉलिज से है और जो फ़सादज़दा मुज़फ़्फ़रनगर का हाल ही में दौरा किया है, अपनी रिपोर्ट में राहत रसानी कैम्पों में वबाएं फूट पड़ने का अंदेशा ज़ाहिर किया है।

रिपोर्ट के बमूजब अगर फ़ौरी इंसिदादी इक़दामात जंगी ख़ुतूत पर ना किए जाएं तो सूरते हाल अबतर होसकती है। रिपोर्ट में कहा गया है की मुक़ामी शहरीयों की कसीर तादाद नफ़सियाती अमराज़ का शिकार है क्योंकि उन्हें गहरा सदमा पहुंचा है। उन्हें फ़ौरी तिब्बी इमदाद और बेघर लोगों की फ़ौरी बाज़ आबादकारी की ज़रूरत है। एसोसिएशन‌ के सदर डाक्टर मुहम्मद एहसानुल्लाह ने कहा कि टीम ने ये रिपोर्ट पेश करदी है।

TOPPOPULARRECENT