Tuesday , April 24 2018

मूर्ति विवाद- जादवपुर में पिटे हिंदू अस्तित्व रक्षा मंच के कार्यकर्ता

जादवपुर विश्वविद्यालय के कथित वामपंथी छात्रों के हमले से बंगाली हिंदू अस्तित्व रक्षा मंच की सभा शुरू होने के पहले ही खत्म हो गयी. हमले में चार लोग घायल हो गये हैं. बड़ी संख्या में पुलिस बल मौके पर तैनात है. घटना 8-बी बस स्टैंड के सामने हुई. पुलिस ने दो लोगों को हिरासत में लिया है. इस हंगामे में कई पुलिस वाले भी जख्मी हुए हैं. त्रिपुरा में लेनिन की मूर्ति तोड़ने के जवाब में रेडिकल-7 नाम की एक  संस्था के पांच सदस्यों द्वारा केवड़तल्ला स्थित श्यामा प्रसाद मुखर्जी की मूर्ति पर कालिख पोतने की घटना के बाद विरोध जताने के लिए बंगाली हिंदू अस्तित्व रक्षा मंच 8-बी बस स्टैंड के पास लेनिन की मूर्ति के नजदीक सभा करने वाला था. सभा की तैयारी अभी चल ही रही थी कि दूसरी तरफ से वामपंथियों का एक जुलूस आकर सभा स्थल पर मौजूद लोगों पर आरोप लगाने लगा कि यह लोग (मंच संस्था के लोग)  लेनिन की मूर्ति तोड़ने आये हैं. इसके बाद हालात बेकाबू हो गया. जादवपुर विश्वविद्यालय के नक्सली विचारधारा वाले छात्र मौके पर पहुंच कर कथित तौर पर हमला बोल दिया. पुलिस ने उनको रोकने का काफी प्रयास किया. इस क्रम में कई पुलिस वाले भी जख्मी हो गये. बाद में भारी पुलिस बल ने मौके पर पहुंच कर बंगाली हिंदू अस्तित्व रक्षा मंच के दो सदस्यों को गिरफ्तार कर बाकी लोगों को वहां से जाने दिया.  गौरतलब है कि मेयो रोड की सभा में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने त्रिपुरा में लेनिन की मूर्ति तोड़ने के साथ श्यामा प्रसाद मुखर्जी की प्रतिमा का अपमान करने व तोड़ने की घटना की कड़ी निंदा करते हुए कहा: यहां पर जादवपुर विश्वविद्यालय में मुट्ठीभर कुछ माओवादी बचे हुए हैं जिनका काम है हर अच्छे काम का विरोध करना. इनके पांच लड़कों की करतूत का इस्तेमाल राज्य सरकार को बदनाम करने के लिए किया जा रहा है.  मुख्यमंत्री ने इनकी निंदा करते हुए इन्हें अपनी हरकतों से बाज आने को कहा. लेकिन शाम होते ही उसी जादवपुर इलाके में माओवादियों ने पुलिस के सामने जिस तरह बंगाली हिंदू अस्तित्व रक्षा मंच के समर्थकों पर हमला बोला वह प्रशासन के लिए काफी चिंता का विषय बन गया है.
TOPPOPULARRECENT