Friday , December 15 2017

मेंहदी हसन, दिलीप , लता और अमीताभ से मुलाक़ात के ख़ाहां थे : फ़र्ज़ंद

पाकिस्तान के मारूफ़ ग़ज़लगो मेंहदी हसन जिन का कल इंतेक़ाल हो गया, ने अपने आख़िरी दिनों में अपने पैदाइशी वतन हिंदूस्तान आने की ख़ाहिश ज़ाहिर की थी लेकिन अल्लाह को कुछ और ही मंज़ूर था । मरहूम के फ़र्ज़ंद आसिफ़ ने कहा कि मेंहदी हसन हालाँकि एक अ

पाकिस्तान के मारूफ़ ग़ज़लगो मेंहदी हसन जिन का कल इंतेक़ाल हो गया, ने अपने आख़िरी दिनों में अपने पैदाइशी वतन हिंदूस्तान आने की ख़ाहिश ज़ाहिर की थी लेकिन अल्लाह को कुछ और ही मंज़ूर था । मरहूम के फ़र्ज़ंद आसिफ़ ने कहा कि मेंहदी हसन हालाँकि एक अर्सा से अलील ( बीमार) हैं और 2010 से ही वो ये ख़ाहिश रखते थे कि हिंदूस्तान का तवील ( लंबा) दौरा किया जाए और ख़ुसूसी तौर पर वहां लता मंगेशकर , दिलीप कुमार और अमीताभ बच्चन से मुलाक़ात की जाए ।

2010 का ज़माना वो था जब लता मंगेशकर और मेंहदी हसन की मुशतर्का एलबम तेरा मिलना मंज़रे आम पर आई थी । वो लता और मेंहदी हसन की पहली और आख़िरी एलबम साबित हुई जिसके लिए लता और मेंहदी हसन ने अपने अपने अशआर ( बहुत से शेर) की रीकार्डिंग बिलतर्तीब मुंबई और पाकिस्तान में की थी,ने अपने अशआर ( शेरों) की रीकार्डिंग मुंबई में की थी

TOPPOPULARRECENT