Tuesday , December 12 2017

मेमो तनाज़ा हुसैन हक़्क़ानी मुस्ताफ़ी होने पर मजबूर

ईस्लामाबाद २३ नवंबर (पी टी आई) पाकिस्तानी सफ़ीर बराए अमरीका हुसैन हक़्क़ानी को आज खु़फ़ीया मेमो के मुआमला में मुश्तबा रोल पर ओहदा छोड़ने के लिए मजबूर होना पड़ा क्योंकि फ़ौज उन पर ब्रहम थी, हुसैन हक़्क़ानी को तीन दिन क़बल तलब किया गया था ।

ईस्लामाबाद २३ नवंबर (पी टी आई) पाकिस्तानी सफ़ीर बराए अमरीका हुसैन हक़्क़ानी को आज खु़फ़ीया मेमो के मुआमला में मुश्तबा रोल पर ओहदा छोड़ने के लिए मजबूर होना पड़ा क्योंकि फ़ौज उन पर ब्रहम थी, हुसैन हक़्क़ानी को तीन दिन क़बल तलब किया गया था ।

वज़ीर-ए-आज़म यूसुफ़ रज़ा गिलानी ने उन्हें ओहदा छोड़ देने की हिदायत दी जबकि उन्हों ने मुल़्क की आला सियोल-ओ-फ़ौजी क़ियादत से मुलाक़ात करते हुए मेमो तनाज़ा पर अपने मौक़िफ़ की वज़ाहत की । हुसैन हक़्क़ानी को सदर आसिफ़ अली ज़रदारी का क़रीबी साथी तसव्वुर किया जाता है ।

आज सदर आसिफ़ ज़रदारी के इलावा फ़ौजी सरबराह जनरल इशफ़ाक़ क्यानी और आई एस् आई सरबराह लॆफ्टिनॆन्ट् जनरल अहमद शुजा पाशा ने एक इजलास में सूरत-ए-हाल का जायज़ा लिया।

सरकारी टी वी ने बताया कि वज़ीर-ए-आज़म गिलानी ने हुसैन हक़्क़ानी को मुस्ताफ़ी होजाने की हिदायत दी ताकि शफ़्फ़ाफ़ तहक़ीक़ात यक़ीनी हो सकॆ।

बताया जाता है कि इन का अस्तीफ़ा मंज़ूर करलिया गया है ।

TOPPOPULARRECENT