Thursday , May 24 2018

मेरा कैरियर इख़तेताम के करीब : द्रविड

एडीलेड ३० जनवरी ( पी टी आई ) मसाइल का शिकार हिंदूस्तानी बल्लेबाज़ राहुल द्रविड ने आज इशारा दिया है कि उन्हों ने इंटरनेशनल क्रिकेट से सुबकदोशी का अभी तक कोई फैसला नहीं किया है ताहम उन्होंने एतराफ़ किया कि इन का शानदार कैरियर यक़ीनन अप

एडीलेड ३० जनवरी ( पी टी आई ) मसाइल का शिकार हिंदूस्तानी बल्लेबाज़ राहुल द्रविड ने आज इशारा दिया है कि उन्हों ने इंटरनेशनल क्रिकेट से सुबकदोशी का अभी तक कोई फैसला नहीं किया है ताहम उन्होंने एतराफ़ किया कि इन का शानदार कैरियर यक़ीनन अपने इख़तेताम के करीब पहूंच चुका है ।

राहुल द्रविड ने ऑस्ट्रेलिया में खेली गई चार टेस्ट मैच्स की सीरीज़ में 24.25 के औसत से 194 रन स्कोर किए थे ।

बैरून मुल्क टीम इंडिया की ये मुसलसल दूसरी शिकस्त है । दोनों ही सीरीज़ों में हिंदूस्तान को 0 – 4 से बदतरीन शिकस्त हुई थी । हिंदूस्तान को इसी फ़र्क़ से इंग्लैड के हाथों भी शिकस्त हुई थी । ऑस्ट्रेलिया की सीरीज़ के बाद ज़राए इबलाग़ में ये कयास आराईयां शुरू हो गयी हैं कि राहुल द्रविड शायद सुबकदोशी इख़तेयार कर लेंगे ।

राहुल द्रविड ने कहा कि वो यक़ीनी तौर पर अपने कैरियर के इख़तेताम के करीब पहूंच गए हैं। इस बात में कोई शक नहीं है । ताहम उन्हों ने अभी कोई फैसला नहीं किया है और अभी फ़ौरी फैसले की ज़रूरत नहीं है । अभी टीम इंडिया आइन्दा सातता आठ माह तक कोई टेस्ट मैच नहीं खेल रही है । आइन्दा वक़्तों में सूरत-ए-हाल क्या होगी ये देखना बाक़ी है ।

सिडनी मॉर्निंग हेराल्ड ने द्रविड का ये कहते हुए हवाला दिया कि वो अपने कैरियर के जिस मोड़ पर हैं वहां हमेशा ही एक सीरीज़ एक वक़्त में मर्कज़ तवज्जा रहती है और ज़्यादा दूर पर कोई ग़ौर नहीं किया जाता । इसे में वो देखेंगे कि आगे क्या होता है । हिंदूस्तानी टीम चंद माह क़बल ही आलमी नंबर एक थी और इंग्लैंड के ख़िलाफ़ सीरीज़ में बदतरीन शिकस्त से वो इस मौक़िफ़ से महरूम होगई थी ।

अब ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ़ शिकस्त के नतीजा में इस के लिए सूरत-ए-हाल और भी मुश्किल होगई है । ऑस्ट्रेलिया ने आख़िरी टेस्ट में हिंदूस्तान को 298 रनों से हराते हुए वाएट वाश मुकम्मल किया ।

ताहम राहुल द्रविड ने कहा कि हिंदूस्तानी टीम को दुनियाए क्रिकेट के फ़ायदा केलिए एक ताक़तवर टीम के तौर पर उभरना चाहीए । उन्हों ने कहा कि बैरून मुल्क टीम इंडिया की कारकर्दगी ज़िया रह अच्छी नहीं है लेकिन उन्हें यक़ीन है कि जब नौजवान खिलाड़ी ज़िम्मेदारी सँभालेंगे तो उन केलिए एक ताक़तवर टीम के तौर पर उभरने में कुछ ही वक़्त दरकार होगा ।

उन्हों ने कहा कि हिंदूस्तान को ताक़तवर टेस्ट टीम के तौर पर उभरना चाहीए ।

TOPPOPULARRECENT