Friday , December 15 2017

मेरे पिता को सिस्टम ने मारा है

भोपाल में सिमी के आठ कथित सदस्यों के जेल से भागने के दौरान मारे गए हवलदार रमाशंकर यादव के छोटे बेटे प्रभु यादव ने कहा है कि सिस्टम की गड़बड़ी की वजह से उनके पिता मारे गए। उन्होंने बीबीसी से बात करते हुए कहा कि सिस्टम की गड़बड़ी की वजह से वो (क़ैदी) बाहर निकल गए। उन्होंने हथियार बना लिए, चादर निकाल ली। ये सब सिस्टम की ही तो गड़बड़ी है।

प्रभु यादव ने  सिस्टम पर कुछ और भी सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि सब जानते हैं कि मैनपावर की कमी है। लेकिन जो मैनपावर है, उसका इस्तेमाल किस तरह से और कहां किया जा रहा है ये तो विभाग ही बता सकता है, लेकिन जिस जगह पर मेरे पिता की तैनाती थी, वहां किसी नौजवान को तैनात किया जाना चाहिए था, न कि मेरे पिता जैसे किसी उम्रदराज़ व्यक्ति को। उन्होंने कहा कि उनके पता रमाशंकर यादव दिल की बीमारी के मरीज़ थें और काफी बीमार रहते थे, इसके बावजूद उनकी तैनाती वहां किया गया।

दूसरी तरफ असम में सेना में हवलदार के पद पर तैनात उनके बड़े बेटे शंभू यादव कहा कि वो इस मसले पर कुछ भी नहीं बोलना चाहते। सिर्फ़ इतना कहना चाहते हैं कि बहुत सारे विषय जांच के हैं। स्टाफ को देखना है कि वो कैसे निकले और किन हालात में यह घटना हुई। उन्होंने विपक्षी दलों पर निशाना साधते हुए कहा कि देश के नेताओं को शहीदों की शहादत नहीं दीखती और वो वोट बैंक की राजनीति कर रहे हैं; ऐसी राजनीति पर लानत है।

गौरतलब है कि रमाशंकर यादव का अंतिम संस्कार मंगलवार को कर दिया गया। उनके घर अब मातम पसरा है। लगभग एक महीने बाद उनकी बेटी सोनिया यादव की शादी होने वाली थी, लेकिन इसी दौरान ये घटना हुई और उनकी हत्या कर दी गई।

TOPPOPULARRECENT