Saturday , December 16 2017

मेवात में की जा रही है सांप्रदायिक उन्माद फ़ैलाने की कोशिश

मेवात(हरियाणा)  : पिछले एक महीने के दौरान मेवात में एक दर्जन से अधिक ऐसी घटनायें हुई जिससे लगे कि मेवात में सांप्रदायिक उन्माद फैलाने किये जाने की कोशिश जा रही है।जिसकी वजह से मेवात इलाका अशांत सा हो गया है|  मेवात जिला के तावडू खण्ड के गांव डींगरहेडी में एक परिवार के दो लोगों कि निर्मम हत्या, दो बेटियों के साथ गैंग रेप, चार लोगों को गंभीर रूप से घायल कर घरों से लाखों रूपये के जेवरात और नगदी की लूट होना। मेवात जिला के नीमखेडा, पुन्हाना, बिछौर और सुनारी में दलितों के साथ अत्याचार की खबरें आना। गांव हिलालपुर में दबंगों द्वारा दलित समाज के लोगों का मंदिर का न बनने देना। पुन्हाना में बीसरू मौड पर रात के समय सो रहे गडरिया लुहारों पर हथियारों से हमला करके एक आदमी की हत्या कर कई को गंभीर रूप से घायल कर हजारों रूपये लूटना। शहीद हसन खां मेडिकल कॉलेज नूंह के सिक्योरिटी गार्डों के साथ नूंह पुलिस द्वारा मारपिटाई करना और उसके बाद कॉलेज के सभी डाक्टरों के हडताल पर जाना और इंसाफ के लिये करीब 100 डाक्टरों द्वारा सामूहिक त्याग पत्र देना। मेडिकल कॉलेज में गार्डों द्वारा इलाज के लिये आई एक महिला के साथ गैंग रेप करना। बिरयानी में बीफ ढूंडना, बिरयानी में बीफ ढूंडने को लिये गये सात सैंपलों में से पांच पोजेटिव मिलने की बात सामने लाकर हजारों लोगों को बिरयानी बैचने से रोककर बेरोजगार बना देना।
पूर्व डिप्टी स्पीकर आजाद मोहम्मद पर जान लेवा हमला करना। गोसेवा आयोग के चेयरमैन भानी राम मंगला के पैतृक गांव बडेड में 85 गाय की खालें मिलना। राजस्थान मेवात के गांव रेवाडा के बास में 36 गायों की खाने मिलने के बाद फिर कुछ उपद्रवियों द्वारा 135 घरों में लूट-पाट और तोड-फोड करना और एक आतंक का माहौल पैदा करना।
बृहस्पतिवार को ही राजस्थान की कोबरा पुलिस द्वारा नगीना खण्ड के गांव बालोज से अवैध खनन के दौरान दो दर्जन डंफर पकडना फिर कोबरा पुलिस द्वारा बडकली चौक और बोडी कोठी पर कोबरा पुलिस द्वारा निर्दोश लोगों के साथ मारपिटाई करना और हाथों में हथियारों को ऐसे लेहराना जैसे वो पाकिस्तान की सीमा में घुस आये हैं। निर्दोष  लोगों की  दुकानों में तोड-फोड करना।
गत 20 सितंबर को डीगरहेडी के पीडित लोगों को हक दिलाने के लिये हजारों युवाओं द्वारा किये गये विरोध प्रदर्शन के बाद हसन खां चौक पर रोड जाम लगाने के बाद करीब 300 युवाओं पर जाम लगाने का मुकदमा दर्ज करना। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खटटर द्वारा डीगरहेडी और बीफ मामले को मामूली घटना करार दिये जाना ऐसी बडी घटनायें हुई हैं। जिन्होने मेवात को हिलाकर रख दिया है। इन घटनाओं से मेवात इलाका पिछले एक महीना से अधिक समय से नेशनल मीडिया की सुर्खियों में छाया हुआ है।
मेवात ज़िले में हरियाणा पुलिस के महानिदेशक का दौरा, अल्पसंख्यक आयोग के चेयरमैन नसीम अहमद और एसटी/एससी आयोग के सदस्य ईश्वर सिंह का दलित पीडित गावों का दौरा भी पूरी तरह से सुर्खियों में है। पूर्व परिवहन मंत्री आफताब अहमद का कहना है कि एक महिना ही नहीं जब से केंद्र और राज्य में भाजपा कि सरकार आई है तब से पूरा देश ही अशांत हो गया है। हर कोई अपने आप को असुरक्षित महसूस कर रहा है। इसके पीछे आरएसएस का एजेंडा काम कर रहा है। हाल ही में उत्तर प्रदेश, पंजाब सहित कई राज्यों में होने वाले विधान सभा के चुनावों को देखते हुऐ भाजपा की सभी शाखायें जिनमें आरएसएस, बजरंगदल, शिवसैना और गोरक्षा दल आदी संगठनों ने देश में एक अशांति का माहौल पैदा कर दिया है। आये दिन बीफ के नाम लोगों लोगों कि हत्यायें की जा रही हैं।
मेवात की सामाजिक संस्था मेवात विकास सभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष उमर मोहम्मद पाडला का कहना है कि इनमें अधिक्तर घटनों के पीछे आरएसएस, विश्व हिंदु परिषद, गौरक्षा दल आदी का खुला हाथ है। उन्होने कहा जिस तरीके से रेवाडा बास में पुलिस की मौजूदगी में आरएसएस, बजरंग दल और गौर रक्षा दल के लोगों ने 135 परिवार के लोगों के घरों में जमकर मारपीट ही नहीं की बल्कि उनके घरों में लूट-पाट भी की। वहीं डीगंरहेडी डबल मर्डर, डबल रैप मामले में भी गोरक्षा दल और आरएसएस के लोगों के हाथ होने कि जानकारी मिली है। बार ऐसोसिएशन मेवात के पूर्व प्रधान महमूदुल हसन का कहा कि मेवात की गंगाजमुनी संस्कृति  को इतनी आसानी से नहीं तोडा जा सकता है। कुछ उपद्रवी लोग चाहते हैं कि मेवात में दंगा भडके लेकिन मेवात की जनता ऐसे लोगों के सभी मनसूबों को नाकाम करती जा रही है। मेवात के आपसी भाईचारें को किसी भी कीमत पर बिगडने नहीं दिया जायेगा |

साभार :यूनुस अल्वी

TOPPOPULARRECENT