Tuesday , December 12 2017

मैंने वज़ीर-ए-आज़म को मारने की बात नहीं की

कोलकता । 22 जनवरी (पी टी आई) चीफ़ मिनिस्टर मग़रिबी बंगाल ममता बनर्जी ने आज मीडीया के एक गोशा पर इल्ज़ाम आइद किया कि इस ने मेरे बयान को तोड़मरोड़ कर पेश किया है। उन्होंने वज़ाहत की कि मैंने वज़ीर-ए-आज़म को मारने की बात नहीं की। मैंने ऐस

कोलकता । 22 जनवरी (पी टी आई) चीफ़ मिनिस्टर मग़रिबी बंगाल ममता बनर्जी ने आज मीडीया के एक गोशा पर इल्ज़ाम आइद किया कि इस ने मेरे बयान को तोड़मरोड़ कर पेश किया है। उन्होंने वज़ाहत की कि मैंने वज़ीर-ए-आज़म को मारने की बात नहीं की। मैंने ऐसा नहीं कहा कि वज़ीर-ए-आज़म की पिटाई की जाये।

अख़बारात ने इस का ग़लत मतलब निकाल कर शाय किया है। मीडीया का एक गोशा मेरे अलफ़ाज़ को मसख़ करके तहरीर किया है। इस तहरीर में ख़ुद मीडीया के अपने ज़ाती मुफ़ादात पाए जाते हैं। कल जो कुछ भी मैंने कहा इस से ये मतलब ज़ाहिर नहीं होता कि में वज़ीर-ए-आज़म की पिटाई करूंगी।

मेंने यही कहा था कि मैंने फ़र्टीलाइज़र की क़ीमतों में इज़ाफे के मसले पर वज़ीर-ए-आज़म से 10 मर्तबा मुलाक़ात की है। में इस से ज़्यादा कुछ नहीं करसकती। क्या मुझे वहां जाना और मारधाड़ करना चाहीए। यही कुछ मैंने कहा था लेकिन मीडीया ने लिखा कि मैंने ये कहा है की में वज़ीर-ए-आज़म की पिटाई करूंगी।

इस तरह की ख़बर अकसर मस्ख़शुदा और बेबुनियाद है। कल ही मुमलिकती की वज़ीर देही तरक़्क़ी दीपा दाश मुंशी ने मुतालिबा किया था कि चीफ़ मिनिस्टर ममता बनर्जी को वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह के ख़िलाफ़ इस तरह की ग़ैर जमहूरी ज़बान इस्तेमाल करने पर माफ़ी मांगनी चाहीए।

आज ममता बनर्जी ने कहा कि फ़र्ज़ कीजिए कि अगर में कहूं कि में चावल हूँ और में चावल खा रही हूँ इस के दोनों मानी यकसाँ होंगे। लिहाज़ा में मीडीया से दरख़ास्त करती हूँ कि वो अवाम में ग़लत इत्तिलाआत और गुमराह कुन मालूमात ना फैलाएं। उन्होंने कहा कि जमहूरीयत में में वज़ीर-ए-आज़म से मिल सकती हूँ उन से बात करसकती हूँ लेकिन में उनकी पिटाई नहीं करसकती। मैंने जो कुछ कहा इस में ग़लती क्या है।

ममता बनर्जी ने कैमिस्ट शॉप मालकीयन की एसोसीएशन‌ पर भी बरहमी ज़ाहिर की जिन्होंने कल फ़ीर प्राइज़ मैडीसन शॉप्स की कुशादगी के ख़िलाफ़ अपनी दुकानात बंद रखे। ममता बनर्जी ने रियासत भर में बाअज़ दवाख़ानों में फ़ीर प्राइज़ मैडीकल शॉप्स क़ायम किए हैं इन में से एक मैडीकल शाप का उन्होंने यहां एस एस के एम हॉस्पिटल में इफ़्तिताह किया।

उन्होंने सवाल किया कि आख़िर मैडीकल शॉप मालकीयन फ़ीर प्राइज़ शॉप्स की कुशादगी की मुख़ालिफ़त क्यों कररहे हैं। अगर ग़रीब अवाम को सब्सीडी क़ीमतों पर अदवियात मिलती हैं तो उन का क्या नुक़्सान होगा। उन्होंने कैमिस्ट शॉप ओनर्स एसोसीएशन‌ से कहा कि वो ख़ुद भी दरख़ास्त दे कर फ़ीर प्राइज़ शॉप खोल सकते हैं, लेकिन वो ब्लैकमेल हरगिज़ बर्दाश्त नहीं करेंगी।

ममता बनर्जी ने जूनियर और तर्बीयत हासिल करने वाले डाक्टरों से कहा कि वो देही इलाक़ों में कम अज़ कम एक साल ख़िदमत अंजाम दें ताकि ग़रीब अवाम का बेहतर ईलाज होसके।

TOPPOPULARRECENT