Monday , December 18 2017

मैं आहिस्ता और मुस्तहकम अंदाज़ में चलने को तर्जीह देता हूँ: अर्जुन मुंडा

रांची, 21 अक्तूबर (पी टी आई) वज़ीर-ए-आला झारखंड अर्जुन मुंडा ने एक अहम ब्यान देते हुए कहा कि हिंदूस्तान में किसी भी वाहिद सयासी पार्टी को वाज़िह अक्सरीयत ना मिलने की सूरत में इत्तिहादी हुकूमतें मुशतर्का अक़ल्ल तरीन प्रोग्राम के तहत चल

रांची, 21 अक्तूबर (पी टी आई) वज़ीर-ए-आला झारखंड अर्जुन मुंडा ने एक अहम ब्यान देते हुए कहा कि हिंदूस्तान में किसी भी वाहिद सयासी पार्टी को वाज़िह अक्सरीयत ना मिलने की सूरत में इत्तिहादी हुकूमतें मुशतर्का अक़ल्ल तरीन प्रोग्राम के तहत चलाई जाती हैं।

अर्जुन मुंडा ने कोलंबिया यूनीवर्सिटी में एक ख़िताब के दौरान ये ब्यान दिया। उन्हों ने कहा कि ऐसी इत्तिहादी हुकूमतों का कब ज़वाल हो जाई, ये कहा नहीं जा सकता, क्योंकि हर इत्तिहादी शराकतदार इक़तिदार में काबुल लिहाज़ हिस्सा का तालिब नज़र आता है और किसी ना किसी नुक्ते पर हुकूमत के साथ सौदेबाज़ी करता हैं।

ऐसी नौईयत की सूरत-ए-हाल अगर पैदा हो जाय तो मुश्किलात में भी इज़ाफ़ा हो जाता ही। ख़ुसूसी तौर पर झारखंड जैसी रियासत में जहां सिर्फ 81 ऐम ईल अज़ हैं, ऐसी सूरत-ए-हाल में सिर्फ एक या दो ऐम ईल अज़ भी इक़तिदार के ताइज़ुन को इधर या उधर कर सकते हैं और इस तरह हुकूमत के ज़वाल का सबब बनते हैं।

अपनी बात जारी रखते हुए उन्हों ने कहा कि इन के पास जो तरीका-ए-कार ही, इस के मुताबिक़ आहिस्ता आहिस्ता चलने और मुसबत सिम्त रवां दवां रहने में आफ़ियत ही, क्योंकि आहिस्ता आहिस्ता और मुस्तहकम अंदाज़ में चलने से ही कामयाबी मिलती हैं, जैसा कि अंग्रेज़ी ज़बान का एक फ़िक़रा है सल्लू ऐंड एसटीडी वंस दी रेस अगर आप के पास सही इत्तिलाआत हैं तो आप के लिए फ़ैसला करना आसान साबित होता है और पार्टी में पाए जाने वाले नाक़िस अनासिर के बारे में भी मालूमात हासिल हो जाती हैं।

गवर्नैंस आफ़ इस्माल इस्टेट्स इन इंडिया के मौज़ू पर अर्जुन मुंडा कोलंबिया यूनीवर्सिटी से कल ख़िताब कर रहे थे। इस मौक़ा पर उन्हों ने तरक़्क़ी का ज़िक्र करते हुए कहा कि आज अगर देखा जाय तो चीन के मआशी हालात सब से ज़्यादा मुस्तहकम हैं और इस ने दुनिया के काबिल लिहाज़ अफ़राद को अपनी जानिब मुतवज्जा किया है।

TOPPOPULARRECENT