मैडीकल साईंस में हैरतअंगेज़(विचित्र‌) तरक़्क़ी (उत्थान‌)से बांझपन पुराने वक़्तों का मर्ज़(रोग‌)

मैडीकल साईंस में हैरतअंगेज़(विचित्र‌) तरक़्क़ी (उत्थान‌)से बांझपन पुराने वक़्तों का मर्ज़(रोग‌)
हैदराबाद२२अक्तूबर। मुमताज़ माहिर अमराज़ निसवां-ओ-बांझपन डाक्टर रोया रोज़ाती ने बताया कि मैडीकल साईंस-ओ-टैक्नालोजी की ग़ैरमामूली (असाधारण‌)तरक़्क़ी की बदौलत शादीशुदा जोड़ों की औलाद से महरूमी अब पुराने वक़्तों की बात होगई ही।

हैदराबाद२२अक्तूबर। मुमताज़ माहिर अमराज़ निसवां-ओ-बांझपन डाक्टर रोया रोज़ाती ने बताया कि मैडीकल साईंस-ओ-टैक्नालोजी की ग़ैरमामूली (असाधारण‌)तरक़्क़ी की बदौलत शादीशुदा जोड़ों की औलाद से महरूमी अब पुराने वक़्तों की बात होगई ही। मैडीकल साईंस ने इस क़दर हैरतअंगेज़ तरक़्क़ी करते हुए बांझ की वजूहात का ना सिर्फ पता चलाया है बल्कि इस के कामयाब ईलाज के लिए मुख़्तलिफ़ (विभिन्न‌)तरीका-ए-कार ईजाद की है जिस की बदौलत ज़नाना-ओ-मर्दाना बांझपन के फ़ीसद और तनासुब में ग़ैरमामूली कमी आई है।

डाक्टर रोया रोज़ाती डायरैक्टर ऐम ऐच आर टी हॉस्पिटल ऐंड रिसर्च सैंटर हैड डिपार्टमैंट आफ़ आबसटीटरीशन गयाना कालूजी उवैसी हॉस्पिटल ऐंड रिसर्च सैंटर जिन का शुमार बर्र-ए-सग़ीर एशिया की मुमताज़ माहिर अमराज़ बांझपन में होता है बताया कि हालिया दस बरस के दौरान बांझपन के कामयाब ईलाज के लिए IVF सब से कामयाब और मक़बूल तरीन तरीक़ा-ए-इलाज साबित हुआ ही। ये बेज़रर और कफ़ाएती ईलाज है जिस की बदौलत औलाद से महरूम लाखों शादीशुदा जोड़े औलाद की नेअमत से सरफ़राज़ हुए हैं। हिंदूस्तान में ये तेज़ी से मक़बूल आम होरहा ही।

डाक्टर रोया ने बताया कि हिंदूस्तान के एक तरक़्क़ी पज़ीर मुलक है ताहम सेहत के शोबे में अवामी शऊर बेदार करने की ज़रूरत ही। औलाद से महरूमी के मुआमला में शऊर का फ़ुक़दान होने की वजह से कई ख़ानदान बिखर जाते हैं। हालाँकि अक्सर-ओ-बेशतर मुआमलात में मियां और बीवी तिब्बी एतबार से मुकम्मल सेहत मंद होते हैं।

अलबत्ता ख़वातीन में हारमोन्ज़ की कमी, मोटापा, ज़ियाबीतस और मर्दों में मादा-ए-तौलीद मैं असपरम काओनसट में कमी की वजह से भी औलाद से महरूमी मुम्किन ही। मुस्तनद(प्रमाणित किया हुआ) माहिर अमराज़ बांझपन (अनफ़रटीलीटी) से मुकम्मल तशख़ीस के बाद ईलाज के ज़रीया इस कमज़ोरी पर क़ाबू पाया जा सकता ही। डाक्टर रोया रोज़ाती ने बताया कि आई वे एफ़ की बदौलत 55साल की उम्र तक भी औलाद से सरफ़राज़ी मुम्किन ही। इन से 9849161421 पर रब्त पैदा किया जा सकता है।

Top Stories