Tuesday , December 12 2017

मॉनसून में हैदराबाद बाह गया

हैदराबाद 22 सितम्बर: शहर में मुसलसिल बारिश के सबब सैलाब की सूरते हाल पैदा हो चुकी है।बारिश की तबाह कारीयों ने आज शहर के लोगों को ऐसी मुश्किलात में मुबतला कर दिया कि शहरी इन हालात में घरों से बाहर नहीं निकल पाए।

हैदराबाद में तेज़ बारिश के सबब नेशनल डिजास्टर रिस्पांस फोर्स (एनडीआरएफ) को अघ कर दिया गया है ताकि जरूरत पड़ने पर यह बचाव के लिये जुट सके।

बारिश के कारण रंगा रेड्डी में स्कूलों-ओ-दुसरे तालीमी इदारों को तातील देदी गई। हैदराबाद में कुछ स्कूल खुले थे लेकिन वहां से भी बच्चों को जल्दी घर भेज दिया गया। सीवरेज के पॉटहोल को लेकर हैदराबाद शहर में तशवीश पाइ गई है।

crater-hyderabad_650x400_71474482286 pathole

किशोर ने कहा कि अंडरग्राउंड ड्रेनेज एक दिन में 200 मिलियन लीटर पानी लेने के लिए डिजाइन किया गया है। लेकिन कल रात की बारिश के चलते 400 एमएलडी पानी ड्रेनेज लाइन में पहुंचा।जिस सड़क पर गड्ढा हो गया है वह 20 साल पहले विश्व बैंक परियोजना के तहत बनाई गई थी।

रात देर गए जारी रहने वाली इस बारिश के मुताल्लिक़ दिल्ली में मौजूद चीफ़ मिनिस्टर तेलंगाना के चन्द्रशेखर राव ने कमिशनर बलदिया डॉ बी जनार्धन रेड्डी से बात करते हुए तफ़सीलात हासिल कीं उन्होंने राहत कारी कामों में तेज़ी लाने के लिए दुसरे महकमाजात के ओहदेदारों की ख़िदमात हासिल करने की हिदायत जारी कर दी।

टी श्रीनिवास यादव ने बारिश से मुतास्सिरा इलाक़ों का दौरा करते हुए हालात से आगही हासिल की और बलदी अमला की तरफ से बारिश के पानी की निकासी के अमल का जायज़ा लिया। रात‍भर तेज़ बारिश के सबब एनटीआर गार्डन्स नेक्लस रोड पर अचानक एक मीटर दायरे का गढ़ा नमूदार हुआ जिसकी इत्तेला मौसूल होते ही एम दाना किशवर मैनेजिंग डायरेक्टर महकमा आबरसानी ने जाये वाक़िया पहुंच कर मरम्मती कामों का अपनी निगरानी में आग़ाज़ करवाया।

मरम्मती कामों के आग़ाज़ के साथ ही ये गढ़ा 3 मीटर के दायरे तक खुल गया और 4 मीटर से ज़्यादा गहिरा हो गया। फ़ौरी मरम्मती कामों के शुरू से कोई बुरा हादसा होने से टल गया।

TOPPOPULARRECENT