Monday , December 18 2017

मोइनउद्दीन कासमी बने रियासती सदर

गया 18 जून : मदरसा कासमिया इसलामिया में पीर के दिन जमियतुल उलेमा की बैठक हुई। इसमें रियासती सदर समेत दीगर ओहदेदारों की कमेटी तशकील की गयी। बिहार के तमाम अज़ला से आये अरकिन ने हजरत मौलाना कारी मोहम्मद मोइनउद्दीन कासमी को इत्तेफाक र

गया 18 जून : मदरसा कासमिया इसलामिया में पीर के दिन जमियतुल उलेमा की बैठक हुई। इसमें रियासती सदर समेत दीगर ओहदेदारों की कमेटी तशकील की गयी। बिहार के तमाम अज़ला से आये अरकिन ने हजरत मौलाना कारी मोहम्मद मोइनउद्दीन कासमी को इत्तेफाक राय से रियासती सदर मुन्तखिब किया। वह मुसलसल तीसरी बार रियासत के सदर मुन्तखिब किये गये हैं।

इस मौके पर फुलवारी शरीफ, पटना के मौलाना बद्र अहमद मुजीबी, किशनगंज के मौलाना अनवर आलम, चंपारण के मौलाना हदीस कासमी, दरभंगा के मौलाना इबरार अहमद को रियासत के नबी सदर मुन्तखिब किया गया।

पटना के हाजी बिलाल अहमद को खजांची चुना गया। हुस्न अहमद कादरी को बिहार रियासत जमायतुल उलेमा का जनरल सेक्रेटरी मुन्तखिब किया गया। इन्तेखाबात के मुबस्सिर और इन्तेखाबात सभा के मेहमान खुसूसी जमायतुल उलेमा हिंद की कौमी रुक्न मौलाना असजद मदनी थे। इस मौके पर 280 रुक्न मौजूद थे।

TOPPOPULARRECENT