Friday , December 15 2017

मोदी का गांधीजी और पटेल से तक़ाबुल

गांधी नगर, 12 जनवरी( पी टी आई) गुजरात चीफ़ मिनिस्टर नरेंद्र मोदी को आज इंडिया इन कॉरपोरेट की जानिब से भरपूर सताइश हासिल हुई जब आर आई एल के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने उन्हें अज़ीम बसीरत के हामिल लीडर क़रार दिया जबकि उनके छोटे भाई और ए बी ए जी

गांधी नगर, 12 जनवरी( पी टी आई) गुजरात चीफ़ मिनिस्टर नरेंद्र मोदी को आज इंडिया इन कॉरपोरेट की जानिब से भरपूर सताइश हासिल हुई जब आर आई एल के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने उन्हें अज़ीम बसीरत के हामिल लीडर क़रार दिया जबकि उनके छोटे भाई और ए बी ए जी के चेयरमैन अनील अंबानी ने नरेंद्र मोदी को महात्मा गांधी और सरदार पटेल की सफ़ में ला खड़ा कर दिया ।

गुजरात में आज से शुरू होने वाली मुतहर्रिक गुजरात चोटी कान्फ्रेंस के मौके पर मुकेश अंबानी ने कहा कि मोदी भाई में हमें एक ऐसा रहनुमा नज़र आता है जो अज़ीम बसीरत का हामिल हैं गुजरात इंफ्रास्ट्रक्चर के शोबा में एक सरकरदा रियासत बन चुका है जिससे बेशुमार फ़वाइद हासिल हो सकते हैं । गुजरात में ये कान्फ्रेंस तीन दिन तक जारी रहेगी जिसका मक़सद मुल्क और बैरून-ए-मुल्क के सनअत कारों को इस रियासत में सरमायाकारी की तरग़ीब देना है । कान्फ्रेंस में सरकरदा हिंदूस्तानी सनअतकारों के इलावा मुख़्तलिफ़ बैरूनी कंपनीयों के नुमाइंदगान भी शिरकत कर रहे हैं ।

अंबानी ने कहा कि रिलायंस को एक गुजराती कंपनी कहे जाने पर उन्हें फ़ख़र महसूस होता है । क्योंकि हम ने गुजरात से अपने सफ़र का आग़ाज़ किया था और दुबारा गुजरात लौट आए हैं जहां कई शोबों में सरमायाकारी की जा रही है । हम ने गुजरात में एक 1,00,000/-करोड़ रुपये सरमाया के अह्द के पाबंद हैं । गुजरात के जामनगर और हज़ीरा प्रोजेक्टों को तौसीअ देंगे ।

उन्होंने पण्डित दीनदयाल उपाध्याय पेट्रोलीयम यूनीवर्सिटी में मज़ीद पाँच सौ करोड़ रुपये की सरमाया करने का अहद किया । उनके छोटे भाई अनील अंबानी ने मोदी की मद्हसराई करते हुए उन्हें महात्मागांधी और सरदार पटेल की सफ़ में खड़ा कर दिया और कहा कि यहां 2अक्टूबर 1869 को महात्मा गांधी पैदा हुए 1अक्टूबर 1875 को सरदार पटेल पैदा हुए 8 दिसंबर 1932 को धीरूभाई अंबानी पैदा हुए और 17सितंबर 1950 को नरेंद्र मोदी पैदा हुए ।रतन टाटा ने गुजरात में सरमायाकारी ना करने को अहमक़ाना क़रार दिया और कहा कि इस रियासत में सनअती तरक़्क़ी के लिए इंतिहाई साज़गार फ़िज़ा है ।

टाटा ग्रुप के एज़ाज़ी सरबराह ने मज़ीद कहा कि मैं पहले भी कह चुका हूँ कि गुजरात में सरमायाकारी ना करना अहमक़ाना बात होगी और ये ग़लती मुझसे भी हुई जब मैंने एक कीनियाई कंपनी के लिए गुजरात के बजाय किसी दूसरे मुक़ाम पर सरमाया का आग़ाज़ किया था लेकिन अब टाटा ग्रुप गुजरात में 34 हज़ार करोड़ की सरमायाकारी का अज़्म रखता है ।

TOPPOPULARRECENT