Monday , December 18 2017

मोदी का दावा झूठा, खराब हालत में गुजरात के मुस्लिम’

सूरत, 14 मई: गुजरात में मुसलमानों की सामाजी हालत बहुत अच्छी नहीं है। नरेंद्र मोदी की कियादत वाली हुकूमत भले ही वाइब्रेंट गुजरात की तरक्की का ढिंढोरा पीट रही है लेकिन यहां मुस्लिम मुआशरे (समाज) में आज भी पचास फीसदी लोग बेहद पिछड़े एव

सूरत, 14 मई: गुजरात में मुसलमानों की सामाजी हालत बहुत अच्छी नहीं है। नरेंद्र मोदी की कियादत वाली हुकूमत भले ही वाइब्रेंट गुजरात की तरक्की का ढिंढोरा पीट रही है लेकिन यहां मुस्लिम मुआशरे (समाज) में आज भी पचास फीसदी लोग बेहद पिछड़े एवं गरीब हैं।

22 फीसदी मुस्लिमों का तो यह भी तय नहीं रहता कि अगले दिन उन्हें खाना मिलेगा भी या नहीं। हम आज जिस गुजरात की तरक्की की बात कर रहे हैं, वह शामिल नहीं है। छह करोड़ गुजरातियों में मुसलमान भी शामिल हैं और उनकी अनदेखी करके गुजरात की तरक्की अधूरी रहेगी। इतवार के दिन मो. फजर्लुर रहीम मुजाद्दीदी ने एक प्रोग्राम में यह बात जाहिर किए।

सूरत के दीनदयाल उपाध्याय इंडोर स्टेडियम में हजारों की तादाद में मौजूद मुसलमानों से खिताब करते हुए मुजाद्दीदी ने कहा कि 21वीं सदी में मुस्लिम समाज को अपनी इक्तेसादी (माली) और सामाजी दोनों चुनौतियों को हल करने के लिए एक साथ जूझना होगा। इसका सबसे बड़ा हथियार जदीद तालीम है।

उन्होंने मदरसों को जदीद तालीम से जोड़े जाने पर भी जोर दिया। मो. मुजाद्दीदी कई रियासतों में अक्लियतों (अल्पसंख्यकों) के लिए ऐसे स्कूल चलाने का काम करते हैं, जहां दीनी तालीम के साथ जदीद तालीम भी दी जाती है। वे मंसूबा बंदी (Planning commission) के मेम्बर भी हैं।

मुस्लिम मुआशरे की माली एवं सामाजी चुनौतियों पर बहस के लिए मुनाकिद इस तकरीब में मरकज़ी वज़ीर ए खारेज़ा सलमान खुर्शीद, उनकी बीवी लुईस खुर्शीद, कांग्रेस के कौमी तर्ज़ुमान मीम अफजल और मुल्क के कई जाने माने मुस्लिम आलिम भी मौजूद थे। प्रोग्राम में गुजरात सरकार से मांग की गई कि वह भी दूसरे रियासतों की तरह दसवीं तक के मुस्लिम तलबा को दी जाने वाली स्कालरशिप को शुरू कराए।

सलमान खुर्शीद की बीवी लुईस खुर्शीद ने प्रोग्राम के मंच से मो. मुजाद्दीदी से मांग रखी कि वे फर्रुखाबाद में भी मुस्लिम बच्चों के लिए एक स्कूल खोलने का ऐलान घोषणा करें। लुईस ने कहा कि स्कूल के लिए वे जमीन मुफ्त में दस्तयाब कराएंगी।

लुईस की मांग को देखते हुए मो. मुजाद्दीदी ने अपनी तंज़ीम की ओर से बारहवीं तक की तालीम के लिए जल्द ही फर्रुखाबाद में एक स्कूल की तंसीब किए जाने का ऐलान किया। उन्होंने कहा कि इस स्कूल में दो हजार से भी ज्यादा बच्चों को पढ़ाने की सहूलत दस्तयाब कराई जाएगी।

TOPPOPULARRECENT