Monday , December 11 2017

मोदी का पुतला फूंकने पर मामला गरमाया, वाजपेयी धरने पर

उत्तर प्रदेश की दारुल हुकूमत में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के दफ्तर के बाहर वज़ीर ए आज़म नरेंद्र मोदी का पुतला फूंके जाने का मामला अब तूल पक़डता जा रहा है। पुतला फूंके जाने के दौरान समाजवादी पार्टी (सपा) और भाजपा कारकुनों के बीच मारप

उत्तर प्रदेश की दारुल हुकूमत में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के दफ्तर के बाहर वज़ीर ए आज़म नरेंद्र मोदी का पुतला फूंके जाने का मामला अब तूल पक़डता जा रहा है। पुतला फूंके जाने के दौरान समाजवादी पार्टी (सपा) और भाजपा कारकुनों के बीच मारपीट और पथराव के बाद पार्टी के रियासती सदर लक्ष्मीकांत वाजपेयी मौके पर मौजूद पुलिस आफीसरों के खिलाफ कार्रवाई की मांग करते हुए धरने पर बैठ गए हैं। वाजपेयी सीनीयर पुलिस सुप्रीटेंडेंट के दफ्तर के बाहर सैक़डों कारकुनो के साथ धरने पर बैठ गए। उनके साथ लखनऊ के साबिक एमपी लालजी टंडन समेत कई लीडर भी मौजूद हैं।

वाजपेयी ने कहा, “हमारी इंतेज़ामिया से मांग है कि मारपीट के दौरान मौजूद रहे पुलिस इंस्पेक्टर और चौकी इंचार्ज के खिलाफ कार्रवाई की जाए। जब तक कार्रवाई नहीं होगी, तब हम डटे रहेंगे।” मालूम हो कि रेल किराये और मालभ़ाडे में हुई बढ़ोतरी के खिलाफ एहतिजाजी मुजाज़िरा कर रहे सपा और भाजपा के कारकुनो के बीच हफ्ते के रोज़ जमकर मारपीट हुई। मारपीट में दोनों पार्टियों के लोगों को चोटें आई हैं। मोदी के हल्के बनारस समेत रियासत की तमाम मुकामात पर एहतिजाजी मुज़ाहिरा हुआ। लखनऊ में विधान भवन के सामने सपा कारकुनो की भाजपा हामियों से जमकर मारपीट हो गई।

तकरीबन 100 सपा कारकुन विधानसभा के सामने मोदी मुखालिफ नारे लगा रहे थे। मोदी का पुतला फूंकने से पहले जब वे पुतले पर डंडे पीटने शुरू किए तो भाजपा हामी गुस्से मे आ गये । भाजपा कारकुनो ने भी जवाबी नारेबाजी शुरू कर दी और बात बढ़ते-बढ़ते मारपीट तक पहुंच गई। वहां मौजूद पुलिस की लापरवाही की वजह से मारपीट ने खरतनाक शक्ल इख्तेयार कर लिया दोनों तरफ के कारकुनो को काफी चोटें आई। कारकुनो ने वहां मौजूद दर्जनों गाड़ियों के शीशे भी तो़ड दिए। विधान भवन के सामने ही वाके भाजपा दफ्तर से निकले कारकुनो ने तशद्दुद का शक्ल ले लिया। उन्होंने ईट और पत्थरों की बारिश शुरू कर दी। पथराव में कुछ लोगों को चोटें आई हैं।

भाजपा यूथ मोर्चा के रियासती सदर आशुतोष राय ने कहाक् “सपा कार्रकुनो ने भाजपा के रियासती दफ्तर के सामने वज़ीर ए आज़म का पुतला फूंकने की कोशिश की।

उनकी गुंडई बर्दाश्त नहीं की जाएगी। पूरे रियासत में इसके खिलाफ मुज़ाहिरा किया जाएगा।” इस बीच भाजपा के रियासती सदर लक्ष्मीकांत वाजपेयी की कियादत में तमाम भाजपा लीडरों और कारकुनो ने सीनीयर पुलिस सुप्रीटेंडेंट के रिहायशगाह को घेर लिया। भाजपा ने इल्ज़ाम लगाया कि सपा के कारकुनों ने भाजपा दफ्तर पर जाकर गुंडई की और पथराव किया। इधर, सपा कारकुनो का कहना है कि वह मोदी सरकार के “गरीब मुखालिफ ” फैसले के खिलाफ अमन के साथ एहतिजाजी मुज़ाहिरा कर रहे थे।

उसी दौरान भाजपा कारकुनो ने पथराव शुरू कर दिया, जिससे कई सपा कारकुनो को चोटें आई हैं। माहौल बिग़ाडने के लिए भाजपा के कारकुन गुनाहगार हैं, अपना ऐब ( गुनाह) छिपाने के लिए वे धरना पर बैठ गए हैं।

TOPPOPULARRECENT