Sunday , December 17 2017

मोदी की कामयाबी में मुसलमानों का भी हिस्सा ,आज़म ख़ां का इद्दिआ

मोदी को मुसलमानों की ताईद उनके सेकूलर होने का सबूत ,यू पी के रियासती वज़ीर का बयान

मोदी को मुसलमानों की ताईद उनके सेकूलर होने का सबूत ,यू पी के रियासती वज़ीर का बयान

मुसलमानों ने 2014 के लोक सभा इंतेख़ाबात में नरेंद्र मोदी की कामयाबी में अपना हिस्सा भी अदा किया है। समाजवादी पार्टी क़ैद-ए-आज़म ख़ां ने जो क़ब्लअज़ीं बी जे पी क़ाइद पर शदीद मज़म्मत में मुलव्विस रह चुके हैं,कहा कि ये इस बात का सबूत है कि मुस्लिम तबक़े सैकूलर है।

यू पी के वज़ीर ने ताहम कहा कि मुसलमानों को बी जे पी की जानिब से झूटे वाअदे करते हुए तरग़ीब दी गई है हालाँकि उन्होंने चीफ़ मिनिस्टर यू पी अखिलेश यादव और समाजवादी पार्टी के सरबराह मुलाय‌म सिंह यादव का दिफ़ा करते हुए यू पी ए की पालिसीयों को समाजवादी पार्टी की रियासत में नाकामी की वजह क़रार दिया।

उन्होंने कहा कि चूँकि मुस्लिम राय दहिंदों के पास किसी को भी शिकस्त देने का कोई सियासी एजंडा नहीं था वो झूटे वादों के जाल में फंस गए । उन्होंने इन वादों पर यक़ीन करलिया और इस यक़ीन में बी जे पी के सियासी इंतेज़ामीया ने भी इज़ाफ़ा किया। आज़म ख़ान जो अक़िलियती तबक़े से लोक सभा इंतेख़ाबात में मोदी को शिकस्त देने की अपील करते रहे हैं और कई बार बी जे पी क़ाइद पर सख़्त तन्क़ीद करचुके हैं जिस की वजह 2002 के गुजरात फ़सादात‌ में इनका अदा करदा किरदार था और उन्हें कुत्ते के बच्चे का बड़ा भाई क़रार दे चुके हैं।

बादअज़ां उन्हें इलेक्शन कमीशन ने इश्तिआल अंगेज़ तक़रीरों की वजह से इंतेख़ाबी मुहिम चलाने से रोक दिया था। बी जे पी क़ाइद कलराज मिश्रा के अखिलेश यादव के इस्तीफे के मुतालिबे पर रद्द-ए-अमल ज़ाहिर करते हुए आज़म ख़ान ने कहा कि समाजवादी पार्टी का नाक़िस इंतेख़ाबी मुज़ाहरा यू पी ए की ग़लत पोलिसीयों और मईशत के नाक़िस इंतेज़ाम की वजह से था और यू पी के चीफ़ मिनिस्टर को मुस्ताफ़ी होने की कोई ज़रूरत नहीं है।

उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी की नाकामी यू पी ए हुकूमत की लूट मार ,इफ़रात-ए-ज़र और करप्शन का नतीजा है चुनांचे अखिलेश यादव को इस्तीफ़ा नहीं देना चाहिए। उन्होंने कहा कि यू पी ए की मुजरिमाना हुक्मरानीजो गुज़शता 10 साल के दौरान जारी थी मुल्क को दरपेश तमाम मसाइब की बुनियाद थी।

उन्होंने ये भी कहा कि जो लोग एसे मुतालिबे कररहे हैं उनकी ज़हनी सेहत मुश्तबा है । उन्होंने समाजवादी पार्टी की कांग्रेस हुक्मरानी को ताईद का दिफ़ा करते हुए कहा कि पार्टी ने अपनी ताईद सिर्फ़ फ़िर्खापरस्त ताक़तों पर क़ाबू पाने केलिए की थी ताकि ज़माम इक़्तेदार फ़िर्क़ा परस्तों के हाथ में ना आजाए।

इस सवाल पर कि यू पी में समाजवादी पार्टी उम्मीदवारों की ज़मानतें तक ज़ब्त होगई हैं जबकि दीगर इलाक़ाई पार्टीयां इंतेख़ाबी कामयाबी अपनी अपनी मुताल्लिक़ा रियासतों में हासिल करचुकी हैं। आज़म ख़ान ने कहा कि अयोध्या ,काशी ,मथुरा और मुज़फ़्फ़र नगर यू पी में हैं और राय दहिंदों से सुनहरे मुस्तक़बिल के वाअदे किए गए हैं कि वो आज़म तरीन हद तक गुमराह किए गए हैं।

आज़म ख़ां ने लोक सभा की नशिस्तों पर यू पी के नौ मुंख़बा नुमाइंदों को चैलेंज किया कि वो अपने मुतालिबात की तकमील कर के दिखाएंगे। रियासत में करप्शन और बेरोज़गारी के मसाइल का ख़ातमा कर दिखाएंगे।

TOPPOPULARRECENT