Thursday , December 14 2017

मोदी की तरक़्क़ी ख़ुद बी जे पी के लिए एक ख़तरा

जे डी (यू) के एन डी ए से ताल्लुक़ात मुनक़ते करने का ख़ैरमक़दम:ग़ुलाम नबी आज़ाद

जे डी (यू) के एन डी ए से ताल्लुक़ात मुनक़ते करने का ख़ैरमक़दम:ग़ुलाम नबी आज़ाद
श्रीनगर । 18 । जून (पी टी आई) मर्कज़ी वज़ीर सेहत ग़ुलाम नबी आज़ाद ने आज कहा कि चीफ मिनिस्टर गुजरात नरेंद्र मोदी की तरक़्क़ी में कांग्रेस को मुस्तहकम किया है और वो बी जे पी का मुक़ाबला करने केलिए तय्यार है क्योंकी उसकी हलीफ़ पार्टीयां इसका साथ छोड़ रही हैं, वो एक तक़रीब के मौक़े पर अलहदा तौर पर प्रेस कान्फ़्रैंस से ख़िताब कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि मोदी का (नुमायां होना) हमारे लिए नहीं बल्कि ख़ुद बी जे पी केलिए एक ख़तरा है। जनतादल (यू) के बी जे पी ज़ेर क़ियादत एन डी ए से 17 साला ताल्लुक़ात मुनक़ते करने के फैसले का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि वो इस इक़दाम केलिए मुबारकबाद पेश करना चाहते हैं, हालाँकि ये बहुत ताख़ीर से किया गया।

इस सवाल पर कि क्या कांग्रेस जे डी(यू) से रब्त पैदा कर के उसे यू पी ए में शामिल करने की कोशिश करेगी।कांग्रेस के सिनीयर‌ क़ाइद ने कहा कि फ़िलहाल ये सवाल भी पैदा नहीं होता। हमें आइनदा महीनों में सूरत-ए-हाल की तबदीली का जायज़ा लेना होगा। तीसरे महाज़ के इमकानात के बारे में सवाल का जकोब देते हुए मर्कज़ी वज़ीर सेहत ने कहा कि माज़ी के तजुर्बात के पेशे नज़र मुल्क के अवाम दुबारा गैर यक़ीनी सूरत-ए-हाल का सामना नहीं करना चाहिऐं गे।

माज़ी में तीसरे महाज़ को बरसर-ए‍-इक्तेदार लाया गया था लेकिन उसकी हुकूमत 1977 में सिर्फ़ दो साल क़ायम रही । दूसरी बार भी एसा ही हुआ। वज़ीर-ए-आज़म दो मर्तबा तब्दील किए गए। 18 माह में एच डी देवी गौड़ा और आई के गुजराल को वज़ीर-ए-आज़म मुक़र्रर किया गया इस लिए उन्होंने एहसास ज़ाहिर किया कि मुल्क के अवाम एक बार फिर गैर यक़ीनी सूरत-ए-हाल पैदा होना नहीं चाहेंगे।

ग़ुलाम नबी आज़ाद ने कहा कि आइन्दा लोक सभा इंतेख़ाबात से पहले सिर्फ़ दो महाज़ कांग्रेस ज़ेर क़ियादत से को लत महाज़ और दूसरे गैर सेकुलर महाज़ ।जे डी यू के एन डी ए में दुबारा शामिल होने के इमकानात के बारे में सवाल करने पर उन्होंने कहा कि बी जे पी बहुत आगे निकल चुकी है और इमकान है कि वो दुबारा साबिक़ मुक़ाम पर वापिस आएगी

TOPPOPULARRECENT