Monday , December 11 2017

मोदी की बीमार ज़हनीयत क़ौमी फ़िक्रमंदी की वजह

नई दिल्ली साबिक़ वुज़राए आज़म के आलमी क़ाइदीन से रवाबित पुरोक़ार और मुहज़्ज़ब , कांग्रेस का तबसेरा

नई दिल्ली

साबिक़ वुज़राए आज़म के आलमी क़ाइदीन से रवाबित पुरोक़ार और मुहज़्ज़ब , कांग्रेस का तबसेरा

नरेंद्र मोदी की बीमार ज़हनियत क़ौमी फ़िक्रमंदी की वजह है। कांग्रेस ने आज वज़ीर-ए-आज़म की जानिब से सिर्फ़ ख़ुद को नुमायां करने की कोशिशों पर तन्क़ीद करते हुए कहा कि मोदी ने अपने एक बयान में कहा है कि आलमी सतह पर हिन्दुस्तान को सिर्फ़ उनकी वजह से शनाख़्त हासिल हुई है।

वज़ीर-ए-आज़म हैरतअंगेज़ दावे कररहे हैं कि 16 मई से पहले जब उन्होंने ओहदा सँभाला था, हिन्दुस्तान दुनिया भर में जाना नहीं जाता था। पार्टी के सीनियर तर्जुमान आनंद शर्मा ने एक प्रेंस कान्फ़्रेंस से ख़िताब करते हुए कहा कि ऐसे दावे करते हुए मोदी तमाम साबिक़ वुज़राए आज़म बिशमोल पण्डित नहरू और अटल बिहारी वाजपाई की तौहीन कररहे हैं।

उन्होंने कहा कि पण्डित नहरू और इंदिरा गांधी जैसे वुज़राए आज़म ज़्यादा पुरोक़ार और ज़्यादा मुहज़्ज़ब रवैया इख़तियार करते थे। आलमी क़ाइदीन से उनके रवाबित पुरोक़ार और मुहज़्ज़ब थे। उन्होंने कहा कि मोदी ने ये हिक्मत-ए-अमली इख़तियार नहीं की है जबकि उन्होंने सदर अमरीका को एक रेडीयो प्रोग्राम के दौरान 23 मर्तबा बारक के नाम से मुख़ातब किया।

उन्होंने कहा कि अपने एज़ाज़ में वज़ीर-ए-आज़म की तर्तीब दी हुई दावत के दौरान ओबामा ने उन के रवैया का मुंहतोड़ जवाब देते हुए उन से कहा था कि उन्होंने अपने कैरियर‌ का आग़ाज़ चाय फ़रोश की हैसियत से किया था। वो आख़िर सिर्फ़ तीन घंटे कैसे सोते हैं और घड़ियाल से उन्होंने कैसे जंग की थी।

वज़ीर-ए-आज़म दरहक़ीक़त अपने ओहदे के लिए बाइस-ए-फ़ख़र नहीं हैं। उन्होंने उसकी शान में कोई इज़ाफ़ा नहीं किया है। मेरे ख़्याल से उन का रवैया क़ौम के लिए परेशानी की वजह बन गया है। आनंद शर्मा राज्य सभा में कांग्रेस के डिप्टी लीडर भी हैं, कहा कि वज़ीर-ए-आज़म का दुनिया भर में मज़ाक़ उड़ाया जा रहा है। इन का रवैया सिर्फ़ मै और मेरा ना सिर्फ़ उन के लिए मौज़ूं नहीं है बल्कि ये एक नरगीसीत है।

ये बीमार ज़हनीयत पूरी क़ौम की फ़िक्रमंदी की वजह बन गई है। आनंद शर्मा ने कहा कि वज़ीर-ए-आज़म पर इख़्तियारात, इक़्तेदार और हक़ का भूत सवार है, वो सीनियर साईंसदानों और सियोल मुलाज़िमीन की तहक़ीर कररहे हैं। इनका ये कहना कि सिर्फ़ वही ख़ुशकिसमत हैं और बाक़ी 125 करोड़ अवाम बदक़िस्मत हैं, फ़िक्रमंदी की वजह है।

उन्होंने मोतमिद ख़ारिजा और मोतमिद फाइनेंस को उनकी मीयाद की तकमील से पहले अलाहदा करदेने की मोदी की कार्रवाई पर तन्क़ीद करते हुए कहा कि डी आर डी ओ के डायरेक्टर अवीनाश चन्द्र को भी उनके ओहदे से हटा दिया गया, हालाँकि वो अग्नी मीज़ाईलस की कामयाब लॉन्च के ज़िम्मेदार थे।

उन्हें बेइज़्ज़ती के साथ वज़ीर-ए-आज़म ने ओहदे से हटा दिया। उन्होंने कहा कि क़ब्लअज़ीं हिन्दुस्तान ने ए पी जे अब्दुल्कलाम को भारत रतन का एज़ाज़ और मीज़ाईल मैन का ख़िताब अता किया था और उन्हें सदर जम्हूरिया बनाया था। मौजूदा पालिसी इस के बिलकुल बरअक्स है।

TOPPOPULARRECENT