Monday , December 18 2017

मोदी के जन्मपत्री ज्ञापन पर अहमद पटेल की आलोचना

कांग्रेस नेताओं की आवाज में आवाज मिलाते हुए अहमद पटेल ने भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मपत्री ज्ञापन पर गंभीर आलोचना में कहा कि उनकी पार्टी इस तरह के खतरों से ख़ाइफ़ नहीं है। कल यहां से लगभग 90 किलोमीटर अंकलेश्वर शहर में आयोजित जन वेदना सम्मेलन को संबोधित और फिर प्रेस सम्मेलन में अहमद पटेल ने कहा कि पार्टी को ऐसी बातों से कोई डर नहीं है।

उन्होंने दावा किया कि उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, मणिपुर, गोवा और पंजाब पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव का परिणाम प्रकट कर देगा कि भाजपा के दिन गिने जणे रह गए हैं। अपने पूर्ववर्ती मनमोहन सिंह पर संसद में ‘रेनकोट’ वाले कटाक्ष पर विपक्ष द्वारा लगातार आलोचनाओं के शिकार मोदी ने हाल ही में हरिद्वार की चुनावी रैली में कांग्रेस से कहा था कि अपनी भाषा काबू में रखे और विनम्र भाषा का प्रदर्शन करे।

” कांग्रेस नेताओं से कहता हूँ कि अपनी भाषा पर नियंत्रण रखें अन्यथा मेरे पास उनकी सारी जन्मपत्री है। भाषा और व्यवहार विनम्रता त्याग नहीं करना चाहता लेकिन आप बकवास करते रहें तो अपने अतीत आप का पीछा करेंगे, अपनी गलत द्रव्यों और अपने पाप आप का पीछा करेंगे। ” अहमद पटेल ने 8 नवंबर 2016 को ” काला दिन ” करार देते हुए कहा कि नोटबंदी से आर्थिक नराज परिलक्षित जो सारे देश में लागू कर दी गई जिसकी वजह से कारोबार बंद हो गए, बड़े पैमाने पर नौकरियों का नुकसान हुआ और आम आदमी को भारी परेशानियों से गुजरना पड़ा।

TOPPOPULARRECENT