Friday , December 15 2017

मोदी के पास पाकिस्तान के संबंध में व्यापक नीति नहीं: विपक्ष

नई दिल्ली: विपक्षी दलों ने आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर आरोप लगाया कि वह पाकिस्तान के संबंध में कोई व्यापक नीति नहीं है। पाकिस्तान के साथ अच्छे संबंधों का निर्माण करने के लिए गंभीरता, मुख्य चिन्ता की आवश्यकता हे”ड्रामह बाजी से काम नहीं चलेगा। ‘ विपक्ष का कहना है कि सरकार की विदेश नीति भी आलसी है। बाहरी स्तर पर सरकारी परियोजनाओं में कोई पारदर्शिता नहीं लगती और यह गैरोाज़ह भी है। कांग्रेस और माकपा का यह बयान उस समय आया जब एक दिन पहले ही नरेंद्र मोदी ने कहा था कि भारत अपने पड़ोसी देश पाकिस्तान के साथ शांति के साथ रहने की कोशिश कर रहा है। भारत का सबसे बड़ा और महत्वपूर्ण उद्देश्य पड़ोसियों के साथ शांतिपूर्ण रूप में रहा जाए लेकिन सीमाओं पर अब तक जो कुछ हो रहा है यह बल प्रयोग का परिणाम है। सीमा मामलों से निपटने के लिए जो कुछ तरीका है इस पर अमल किया जाएगा। कांग्रेस प्रवक्ता आनंद शर्मा ने कहा कि पाकिस्तान के साथ दोस्ताना संबंध रखने के खिलाफ कोई भी नहीं। हमारा सवाल ये है कि मोदी ने अब तक पाकिस्तान के संबंध में कोई व्यापक नीति नहीं बनाई है और न ही विपक्ष को विश्वास में लिया है। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार पाकिस्तान के बारे में अब तक नाटक बाजी से काम ले रही है। कूटनीति के लिए नाटक बाजी की जरूरत नहीं है केवल चिन्ता और गंभीरता से काम करना होता है।

पाकिस्तान के बारे में मोदी सरकार ने अब तक जो कुछ भी व्यवहार किया है वह उनके नाटकीय स्टैंड के सिवाय कुछ भी नहीं है। माकपा नेता बरन्दाकरत ने केंद्र को निशाना बनाते हुए कहा कि पाकिस्तान के बारे में मोदी सरकार ने अब तक कोई व्यापक योजना तयारनहीं है। उन्होंने कहा कि केवल दिखावे नीति के जरिए मोदी सरकार अपने पड़ोसी होने का हक़ अदा कर रही है। और वास्तव में पड़ोसी देशों के साथ दोस्ताना संबंधों को मजबूत बनाना है तो इसके लिए गंभीर कूटनीतिक प्रयास करना होगा। निस्संदेह भारत के खिलाफ पाकिस्तान आतंकवादियों को प्रोत्साहित कर रहा है लेकिन इस समस्या से निपटने के लिए गंभीर प्रयास करने की जरूरत है।

बरन्दाकरत ने कहा कि एक दिन आप यह कहते हैं कि हम पाकिस्तान में बम डालेंगे दूसरे दिन गृहमंत्री राजनाथ सिंह कहते हैं कि गोलियां चलाने से कुछ काम नहीं होगा जबकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उनके जन्मदिन पर बधाई देने के लिए नवाज शरीफ से मुलाकात करते हैं। कांग्रेस नेता पी एल बोनी ने सरकार पर आरोप लगाया कि वह आरबीआई गवर्नर रघोराम राजन के मुद्दे पर दोहरी रणनीति ले रहा है। एक ओर सरकार उनके काम की तारीफ कर रही है तो दूसरी ओर रघोराम आलोचना करने वालों को खुली छूट दे रखी है। आज हमारे देश की अर्थव्यवस्था नाजुक दौर से गुजर रही है इसीलिए सरकार और देश के अंदर स्थिरता लाना चाहिए। सरकार को जनता के सामने जवाबदेह होना है। आर्थिक रूप से देश उथल पुथल का शिकार है। कीमतों में वृद्धि से देश की बड़ी आबादी जरूरी सामान खरीदने के लिए पैसा नहीं हो रही है।

TOPPOPULARRECENT